Breaking News
Home / मध्यप्रदेश / अनूपपुर (मध्यप्रदेश):कुपोषण से सुपोषण की राह तय करने के लिए रोकना टोकना एवं सतत निगरानी आवश्यक

अनूपपुर (मध्यप्रदेश):कुपोषण से सुपोषण की राह तय करने के लिए रोकना टोकना एवं सतत निगरानी आवश्यक

*समस्त विभाग समेक़ित होकर करें प्रयास*

रिपोर्ट तीरथ पनिका
Ibn24x7 News
मध्यप्रदेश

अनूपपुर 2 मार्च- नौनिहाल बच्चों के स्वास्थ्य की देखभाल करना उनके सही पोषण को सुनिशचित करना बड़े बच्चों से काफ़ी अलग है। इस हेतु विशेष प्रयास की आवश्यकता होती है। सिर्फ़ साधन संसाधन खाद्य सामग्री उपलब्ध करा देने से अपेक्षित परिणाम प्राप्त करना सम्भव नही। इस हेतु सम्बंधित अधिकारियों कर्मचारियों का बच्चों से व्यक्तिगत जुड़ाव आवश्यक है। तभी बच्चे की आवश्यकताओं एवं उसकी सोच को समझ उसकी सही देखभाल की जा सकती है।कुपोषण के अभिशाप से मुक्ति दिलाकर सुपोषण के लक्ष्य में पहुँचने के लिए रोकना टोकना प्यार दुलार एवं सतत निगरानी आवश्यक है। तभी यह सुनिश्चित हो सकता है प्रयास सही दिशा में जा रहे हैं। कलेक्टर जिलाधिकारियों की बैठक में ज़िले को कुपोषण के अभिशाप से मुक्त करने की कार्ययोजना एवं क्रियान्वयन प्रक्रिया पर चर्चा कर रहे थे।इस दौरान कलेक्टर ने जिलाधिकारियों को स्वेक्क्षा से टीबी पीड़ित बच्चों को गोद लेने एवं सतत रूप से उनकी देखरेख करने की बात कही। उल्लेखनीय है कि ज़िले में 30 बच्चे टीबी रोग से ग्रसित हैं।आपने सभी जिलाधिकारियों से आंगनवाड़ी केंद्रों को गोद ले वहाँ संचालित गतिविधियों का नियमित एवं सतत रूप से निष्पादन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने कहा अच्छा स्वास्थ्य विकास की आधारशिला रखता है इस हेतु समस्त विभाग समेकित रूप से प्रयास करें।
कुपोषित बच्चों हेतु पोषण पुनर्वास केंद्र (NRC) में किए जा रहे प्रयासों की समीक्षा करते हुए कलेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर ने स्पष्ट किया बच्चों का स्वास्थ्य प्रशासन की प्राथमिकता है इस कार्य में किसी भी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नही की जाएगी।

About IBN24X7NEWS

Check Also

बेतुल, मध्यप्रदेश: बैतूल में बंपर वोटिंग, 78 फीसदी दर्ज हुआ मतदान

रिपोर्ट पुंकेश भटकरे ibn24x7news बेतुल, मध्यप्रदेश बैतूल में बंपर वोटिंग, 78 फीसदी दर्ज हुआ मतदान, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *