Breaking News
Home / उत्तरप्रदेश / इटावा / सराफा व्यापारी के बेटे के अपहरण कर मार देने को लेकर परिजनों ने शव रखकर किया प्रदर्शन , एसओ लाइन हाजिर

सराफा व्यापारी के बेटे के अपहरण कर मार देने को लेकर परिजनों ने शव रखकर किया प्रदर्शन , एसओ लाइन हाजिर

सराफा व्यापारी के बेटे के अपहरण कर मार देने को लेकर परिजनों ने शव रखकर किया प्रदर्शन , एसओ लाइन हाजिर

इटावा – जिला इटावा के कोतवाली इलाके के कबीरगंज निवासी सर्राफा व्यापारी के पुत्र की अपहरण करने के बाद सिर कुचलकर नृशंश हत्या कर दी गयी। सर्राफा व्यापारी ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हत्या के लिए पुलिस को जिम्मेदार ठहराया है।

सर्राफा व्यापारी के पुत्र का कुचला हुआ शव थाना कोतवाली क्षेत्र के सुनसान इलाके में भोला सैय्यद मस्जिद के पीछे पड़ा मिला है। अपहरणकर्ताओं ने सर्राफा व्यापारी से दस लाख की फिरौती लेने के बाद भी उसके पुत्र को मौत के घाट उतार दिया। पुलिस हत्यारोपियों की तलाश में जुटी है, लेकिन अभी तक कोई सुराग हाथ नहीं लगा है। आरोपियों की गिरफ्तारी न होने से नाराज परिजनों ने शहर के चौराहे पर शव रखकर प्रदर्शन शुरू किया है। एसएसपी ने एसओ सिविल लाइंस को लाइन हाजिर कर दिया है।
सर्राफा व्यापारी धर्मेन्द्र वर्मा ने बताया कि उनका 25 वर्षीय पुत्र अर्पित वर्मा शनिवार देर शाम करीब 8:45 बजे घर से अपनी मोटरसाइकिल पर अपने चाचा की दुकान के लिए निकला था, तभी से अर्पित लापता हो गया। रात दस बजे अर्पित के फोन से ही अपहरण की सूचना आई और अपहरणकर्ताओं ने दस लाख की फिरौती की मांग की।

धर्मेन्द्र ने पुलिस से सम्पर्क किया और देर रात तक पुलिस से मदद की गुहार लगाते रहे और रात तीन बजे तक पुलिस के अधिकारियों के घर के चक्कर लगाते रहे।
लेकिन पुलिस ने सुबह जाकर उनसे कहा कि आप फिरौती के पैसों की व्यवस्था कीजिए, आपका बेटा और पैसा दोनों सुरक्षित वापस आ जाएंगे। सुबह उन्होंने दस लाख रुपए की व्यवस्था करके पुलिस को दे दिए, लेकिन पुलिस उनके बेटे का पता नहीं लगा पाई। दोपहर में सूचना आई कि कोतवाली क्षेत्र के सुनसान इलाके में उनके बेटे की लाश पड़ी मिली है। धर्मेन्द्र ने कहा कि उनके बेटे के अपहरण की सूचना को यदि पुलिस गंभीरता से लेती तो उनका बेटा आज जीवित होता।
पीड़ित परिवार को सात्वना देने पहुंची सदर विधायिका सरिता भदौरिया ने कहा कि मामला बहुत ही गंभीर है। पुलिस अगर मामले को गंभीरता से लेकर काम करती तो शायद यह बच्चा आज जीवित होता। इस मामले पर पुलिस के बड़े अधिकारियों से बात की जाएगी और लापरवाह पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जाएगी। साथ ही साथ अपहरणकर्ताओं को भी जल्द ही गिरफ्तार करवाने की मांग होगी।

क्षेत्राधिकारी नगर एसएन वैभव पाण्डेय ने बताया कि जानकारी मिली है कि मृतक के मित्र ने उससे पांच लाख रूपए की मदद की मांग की थी। जिसे मृतक के पिता ने देने से मना कर दिया था। पुलिस उसी दिशा में शक के आधार पर कार्रवाई करते हुए मृतक के उन मित्रों की तलाश में जुट गयी है। उनकी गिरफ्तारी के बाद ही कुछ तथ्य सामने आ पाएंगे।

About IBN24X7NEWS

Check Also

संचारी रोग नियंत्रण अभियान व दस्तक पखवाड़ा का शुभारंभ सदर विधायक ने किया

रिपोर्ट अरविंद यादव ibn24x7news महाराजगंज महराजगंज:- जिला संयुक्त चिकित्सालय परिसर से संचारी रोग नियंत्रण अभियान …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *