Breaking News

बरगद महाकाली पूरी करती है सभी भक्तों की मनोकामना

रिपोर्ट अरविंद यादव ibn24x7news महाराजगंज

परतावल, महराजगंज जिले में स्थिति परतावल ब्लाक क्षेत्र के अंतर्गत बसहिया बुजुर्ग मुरली चौराहे से सटे नहर की पटरी के बगल में आदि शक्ति जगत जननी मां बरगद महाकाली का प्रसिद्ध मंदिर है। लोगों का मानना है कि जो भक्त सच्चे मन से मां से मन्नत मांगता है, उसकी मुरादें मां बरगद महाकाली अवश्य पूरा करती हैं।

लोग बताते है कि इस स्थान के रास्ते पर कोई महिला लाल कलर की साड़ी पहन कर नही जा पाती थी।और लोग इसको बहुत बड़ा भूत जानते थे परन्तु पुलिस विभाग के एक अधिकारी को इस स्थान से पुत्र हो गया।तब तक यह स्थान जमीन पर पिंडी के रूप में था लेकिन पुलिस विभाग के अधिकारी ने इस स्थान को छोटा सा चबुतरा बनवाया। लेकिन 40 वर्ष पहले माता की कृपा देवीशरण यादव पर हुई और माता के आदेश पर पूर्व पुजारी रामप्रीत को सारी बाते श्री यादव ने बताया फिर पुजारी ने प्रमाण के तौर पर दिखाया भी पूर्व पुजारी को तदुपरान्त श्री यादव की बात बात पर विशवास हुआ।

उस स्थान की रूप रेखा को बदलने की पूरी जिमेदारी श्री यादव को दे दिया तथा उस स्थान के मिथ्या को तोड़कर श्री यादव ने उस स्थान का जीर्णोद्धार किया और पति पत्नी पूजन करके उस मंदिर के नीव का निर्माण करवाया आज भी मंदिर का कार्य चल रहा है।आज इस स्थान पर काफी मात्रा में भीड़ होती है।और इस स्थान की सबसे बड़ी विशेषता की पुत्र ज्यादा माँ की कृपा से होते है।श्री यादव ने अथक प्रयास करके एवं माता की दी हुई शक्ति के द्वारा आज यह स्थान बिकराल हो गया है इस स्थान का चमत्कार अभी कुछ दिन पहले श्यामदेउरवा थाने पर तैनात सब इंस्पेक्टर सुबास यादव भी इस स्थान से प्रभावित हुए हैं |

तथा कुछ वर्ष पूर्व बन विभाग के रेंजर भी इस स्थान की महिमा का वर्णन करते है एवं पूर्वअधिशासी अधिकारी सलेमपुर प्रेम लाल यादव भी माँ की महिमा से वाकिब है। पहले उसे एक छोटे से मंदिर में स्थापित कर पूजा-अर्चना शुरू कर दिया। पूजा-अर्चना शुरु होते ही इस गांव के साथ-साथ अगल-बगल के गांव में सभी लोग सुख समृद्धि से अपना जीवन-यापन करने लगे।

लोग कहते हैं कि मां विभिन्न रूपों में गांवों में विचरण करती थी।यहां गोरखपुर, देवरिया, कुशीनगर, सिद्धार्थनगर, नेपाल,बिहार तथा बॉम्बे आदि स्थानों से लोग नवरात्र के अवसर पर मां के दर्शन के लिए आते है।यहां नवरात्र में लोग कड़ाही चढ़ाते हैं, मुंडन संस्कार भी होता है।

वही उस स्थान के पुजारी डॉ देवीशरण यादव ने बताया कि बरगद महाकाली आदि शक्ति जगत जननी मां का प्रसिद्ध मंदिर है। इनका मानना है कि जो भक्त सच्चे मन से मां से मन्नत मांगता है, उसकी मुरादें बरगद महाकाली अवश्य पूरा करती हैं। स्मरण रहे कि शारदीय नवरात्र के अंतिम दिन सिद्ध दात्री के रूप में बरगद महाकाली ने आये हुए स्थान पर सभी भक्तों को माता ने अभयबरदान दिया।आज नवमी के पावन पर्व पर मां के स्थान पर उमरी भक्तों की भीड़ दूरदराज से आए हुए सभी भक्तों ने मां का किया अर्चन बंधन और हवन मां का पंडाल दुल्हन की तरह सजा हुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

× For any query click here ( IBN )