Breaking News
Home / Highlight's / बजट से शेयर बाजार में 10 साल की सबसे बड़ी गिरावट, एक दिन में ही डूबे 3.46 लाख करोड़

बजट से शेयर बाजार में 10 साल की सबसे बड़ी गिरावट, एक दिन में ही डूबे 3.46 लाख करोड़

बजट से शेयर बाजार में 10 साल की सबसे बड़ी गिरावट, एक दिन में ही डूबे 3.46 लाख करोड़

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का दूसरा बजट शेयर बाजार की उम्मीदों पर खरा नहीं उतरा है. बजट आते ही शेयर बाजार ने निराश किया है. हालात ये हो गए कि शेयर बाजार में 10 साल की सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिली, जिससे निवेशकों के लाखों करोड़ स्वाह हो गए

  • बजट के दिन सेंसेक्‍स 39,735.53 अंक पर बंद हुआ
  • बजट के दिन निफ्टी टूटकर 11,661.85 अंक पर था

बीते 1 फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आम बजट पेश किया. इस बजट में किसान, महिला, युवा, छात्रों के अलावा मध्‍यम वर्ग के लिए कई खास ऐलान किए गए. वहीं कॉरपोरेट सेक्‍टर को भी राहत दी गई है. हालांकि निर्मला सीतारमण के इस बजट से शेयर बाजार का तत्‍काल रिएक्‍शन ठीक नहीं रहा. इसका नतीजा ये हुआ कि एक दिन में निवेशकों के 3.46 लाख करोड़ रुपये डूब गए.

कैसे डूब गए 3.46 लाख करोड़?

दरअसल, बजट से एक दिन पहले यानी 31 जनवरी को सेंसेक्‍स इंडेक्‍स बीएसई पर लिस्टेड कुल कंपनियों का मार्केट कैप 1,56,50,981.73 करोड़ रुपये था. वहीं बजट के दिन यानी 1 फरवरी को मार्केट कैप घटकर 1,53,04,724.97 करोड़ रुपये पर आ गया. इस लिहाज से सिर्फ एक कारोबारी दिन में निवेशकों को 3.46 लाख करोड़ से अधिक का नुकसान हुआ है.

10 साल की सबसे बड़ी गिरावट

यहां बता दें कि शनिवार को बजट के दिन सेंसेक्‍स ने 10 साल की सबसे बड़ी गिरावट देखी. कारोबार के अंत में सेंसेक्‍स 987.96 अंक या 2.43 फीसदी के नुकसान से 39,735.53 अंक पर बंद हुआ. इसी तरह निफ्टी 300.25 अंक या 2.51 फीसदी टूटकर 11,661.85 अंक पर आ गया. यहां बता दें कि शनिवार को साप्‍ताहिक अवकाश के दिन शेयर बाजार में कारोबार नहीं होता है, लेकिन इस बार आम बजट की वजह से बाजार खुला था.

क्‍या है बाजार में गिरावट की वजह?

1. शेयर बाजार में गिरावट की सबसे बड़ी वजह बजट में डिविडेंड डिस्ट्रिब्यूशन टैक्स/लाभांश वितरण कर (डीडीटी) को हटाना है. दरअसल, सरकार ने कंपनियों को राहत देने के लिए डीडीटी हटा दिया है. डीडीटी, वो टैक्‍स होता है जो कंपनी की ओर से शेयर धारकों को जारी किए जाने वाले डिविडेंट यानी लाभांश पर लगता है. अब कंपनियों पर ये टैक्‍स नहीं लगेगा लेकिन बजट में शेयरधारकों को डीडीटी पर कोई राहत नहीं दी गई है. यही वजह है कि शेयरधारकों में निराशा का माहौल है.

3. सरकार अगले वित्त वर्ष में बाजार से 5.36 लाख करोड़ रुपये का कर्ज जुटाएगी. वहीं चालू वित्त वर्ष 2019-20 के मार्च तक 4.99 लाख करोड़ रुपये कर्ज जुटाने का लक्ष्‍य रखा गया है.  इससे पहले सरकार ने कर्ज जुटाने के लिए 4.48 लाख करोड़ रुपये का लक्ष्‍य रखा था. ऐसे में साफ है कि सरकार को बाजार से अब पहले के मुकाबले अधिक कर्ज लेना पड़ेगा.

4. बजट में अगले वित्त वर्ष में विनिवेश से 2.10 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा गया है. यह चालू वित्त वर्ष के संशोधित 65,000 करोड़ रुपये के अनुमानित लक्ष्य से करीब तीन गुना है. ऐसे में आशंका है कि सरकार अगले वित्त वर्ष में इस लक्ष्‍य को हासिल करने के लिए LIC समेत कई कंपनियों में अपनी हिस्‍सेदारी बेच सकती है. यहां बता दें कि 5 जुलाई 2019 को पेश किए गए बजट में चालू वित्त वर्ष में विनिवेश से 1.05 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा गया था लेकिन अब इसे संशोधित कर 65,000 करोड़ रुपये कर दिया गया है.

5. इसके अलावा बाजार को लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स में राहत की उम्मीद थी, जिस पर झटका लगा है. वहीं ऑटो, रियल एस्‍टेट सेक्‍टर को भी बजट में कोई सरप्राइज नहीं मिला है. यही वजह है कि निवेशकों में निराशा का माहौल है.

About IBN NEWS

It's a online news web channel running as IBN24X7NEWS.

Check Also

अधिकारियों द्वारा पूरी तरह से बंद श्रीनगर क्षेत्र

अधिकारियों द्वारा पूरी तरह से बंद छत्ताबल श्रीनगर क्षेत्र …

सब डिवीजन उरई के बोनियार में दुर्घटना

बारामूला जिला- उरी: 08 अप्रैल 2020, गुड विल आर्मी स्कूल के पास बोनियार में दो …

कोरोना: UP में किसानों की जुताई-बुवाई मुफ्त में कराएगी योगी सरकार

कोरोना: UP में किसानों की जुताई-बुवाई मुफ्त में कराएगी योगी सरकार कोरोना संकट के चलते …

ताज़ा खबर- अरामपोरा सोपोर में सेना और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ शुरू

ताज़ा खबर- अरामपोरा सोपोर में सेना और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ शुरू सेना, सीआरपीएफ और …

‘पीएम केयर’ फण्ड के तहत सभी धन राशी को ‘प्रधान मंत्री राष्ट्रीय राहत कोष’ में स्थानांतरित करें: सोनिया गाँधी

दक्षता, पारदर्शिता, जवाबदेही के लिए ‘प्रधान मंत्री राष्ट्रीय राहत कोष’ के लिए ‘पीएम केयर’ फंड …

WhatsApp For any query click here