Breaking News

Patna: राजधानी पटना के फुलवारी शरीफ के थानेदार अपराधियो को गिरफ्तार करने के बजाय,पत्रकार के साथ मारपीट करने का करते है प्रयास

Report aman Singh ibn24x7news patna

फुलवारी शरीफ के थानेदार अपराधियों को गिरफ्तार करने की बजाय पत्रकार के साथ मारपीट करने का करते हैं प्रयास
क्राइम रिपोर्टर । पटना राजधानी से सटे फुलवारीशरीफ के थानेदार कैसर आलम अपराधियों को गिरफ्तार करने की बजाय पत्रकार के साथ मारपीट करने का प्रयास करते हैं। दरअसल 19 मई को खलीलपुरा व अल्बा कॉलोनी में दो युवकों की हत्या हुई थी। इसी मामले की जानकारी लेने के लिए दैनिक भास्कर के स्थानीय पत्रकार मसूद आलम थाना गए थे। उस वक़्त थानेदार भी थाना में मौजूद थे। पत्रकार को देखते ही कैसर आग बबूला हो गए। उन्होंने कहा जितना छापना है। छाप लो । मेरा कुछ नही होने वाला है। इसी बीच पत्रकार और थानेदार से बहस हुई। उसके बाद थानेदार ने पत्रकार को मारने का प्रयास किया। पत्रकार ने इसकी जानकारी अपने साथियों को दी। इस बाबत डीजीपी से एडीजी मुख्यालय, आईजी, डीआईजी व एसएसपी को थानेदार की करतूत के बारे में जानकारी दी गई । यही नहीं बिहार श्रमजीवी यूनियन ने भी इसकी जानकारी एडीजी मुख्यालय को दी। एडीजी मुख्यालय ने मामले की छानबीन कर कार्रवाई का भरोसा दिया। डीआईजी राजेश कुमार व एसएसपी गरिमा मालिक ने कहा कि मामले की छानबीन कर थानेदार पर कार्रवाई की होगीं
1 महीने में दो हत्या आधा दर्जन चोरी व चैन स्नैचिंग की 4 घटनाएं फुलवारीशरीफ में पिछले 1 महीने में दो युवकों की हत्या हुई। आधा दर्जन से अधिक चोरी की वारदातें हुई है। उनमें अधिकतर चोरी की घटनाएं थाना और आसपास हुई। यही नहीं चार-पांच चेन स्नेचिंग की घटनाएं भी हुई है। बावजूद पुलिस किसी भी मामले का खुलासा नहीं कर सकी। जब इन घटनाओं के बारे में अखबार में छपता है तो थानेदार को यह नागवार गुजरता है। पिछले दिनों गोविंदपुर में शराब की भठ्ठी पकड़ी गई थी। भारी मात्रा में उत्पाद विभाग ने देसी शराब बरामद किया था। गोविंदपुर, फुलवरी थाना से चंद किलोमीटर है पर पुलिस को पता तक नहीं चलता है। इसके अलावा आसपास गांव में शराब का अवैध धंधा चलता है। पुलिस कार्रवाई नहीं करती है। पुलिस कार्रवाई क्यों नहीं करती है इसका सहज अंदाजा लगाया जा सकता है। बिहार श्रमजीवी पत्रकार यूनियन के महासचिव प्रेम कुमार ने एसएसपी से मांग की है कैसर को फुलवारीशरीफ थानेदार इसे हटाया जाए।
दरोगा से भी करते हैं मारपीट
फुलवारीशरीफ थाना से पहले पीरबहोर थाना में थानेदार रह चुके हैं। वहां भी उनका व्यवहार ठीक नहीं था। कैसर पर वहां के दो दरोगा ने उन पर मारपीट का आरोप लगाया था । मामला वरीय अधिकारी तक पहुंच गया था। मामले को आगे बढ़ता देख पुलिस के बड़े अधिकारियों ने दोनों दरोगा को वहां से हटा दिया। मोकामा में भी थानेदार रहते के आरोप लगे थे।

About IBN24X7NEWS

Check Also

breaking मिर्ज़ापुर: गांव वालो की पिटाई से वृद्ध महिला की मौत

रिपोर्ट सुजीत कुमार ibn24x7news अदलहाट मिर्ज़ापुर 14 जून 2019 जमालपुर मीरजापुर –  जमालपुर थाना क्षेत्र …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *