Breaking News

ताजिया जलकर खाक: दबंग दलितों ने बिगाडी सामाजिक समरसता,बिगडे हालात

रिपोर्ट राकेश पाण्डेय ibn24x7news ग़ाज़ीपुर

यूपी के चंदौली जिले के चकिया कोतवाली क्षेत्र के अमरा उत्तरी गांव में असमाजिक तत्वों ने मंगलवार की सुबह करीब 11 बजे ताजिया में आग लगा दी गई। ताजिया जलाए जाने के बाद गांव में तनाव व्याप्त हो गया।

मौके पर एडिशनल एसपी, सीओ समेत तमाम प्रशासनिक अधिकारी पहुंच गए। ताजिया स्थल के चारों ओर पुलिस फोर्स तैनात कर दी गयी है। वहीं मौके पर पहुंची पुलिस भी ताजिया जलाने वालों की तलाश में जुट गई है। अमरा उत्तरी गांव के ताजिएदार निजामुद्दीन के नेतृत्व में मुस्लिम समुदाय के लोग गांव स्थित चौक पर रात्रि को ताजिया ठंडा करने के लिए रख दिए। सुबह तक सब कुछ ठीक-ठाक रहा।

मुस्लिम समुदाय के युवक अपने-अपने घरों के आसपास लाठी रिहर्सल सहित अन्य कार्य में लगे थे। इसी बीच किसी ने चौक में रखे ताजिए में आग लगा दी। देखते- देखते ताजिया जलकर राख हो गया।

आसपास की मुस्लिम महिलाएं ताजिया को जलता देख छाती पीट-पीटकर रोने बिलखने लगी। वहीं मुस्लिम समुदाय के युवा आक्रोशित हो गए।

लेकिन बड़े बुजुर्गों के समझाने पर लोग शान्त हो गए। मौके पर एडिशनल एसपी विरेंद्र कुमार, सीओ कुंवर प्रभात सिंह, कोतवाल संतोष राय बबुरी थाना प्रभारी एनएन सिंह समेत भारी पुलिस फोर्स व पीएसी के जवान पहुंच गए।सुरक्षा के लिहाज से चौक स्थित जले तालियां स्थल को चारों तरफ से घेर लिया गया। ताकि कोई समुदाय उन्माद फैलाने न पाए।

बीच में मुस्लिम समुदाय के लोगों द्वारा नारेबाजी करने से ही तनावपूर्ण हो गयी। हालांकि एडिशनल एसपी सहित पुलिस अधिकारियों व चेयरमैन अशोक बागी चकिया नगर के सदर मुस्ताक अहमद आदि संभ्रांत जन आक्रोशित लोगों के बीच पहुंचकर नया ताजिया बैठाने के साथ ही आरोपियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई करते हुए आरोपितों की गिरफ्तारी का आश्वासन दिया।

ताजियादार निजामुद्दीन ने गांव के राजाराम बिन्द सहित सात लोगों के खिलाफ लिखित तहरीर दी है। पुलिस ने 24 घंटे के अंदर गिरफ्तारी किए जाने का आश्वासन दिया है। एहतियात के तौर पर सुरक्षा बलों की गांव में तैनाती की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *