Breaking News

मैलानी खीरी: आबकारी विभाग और स्थानीय पुलिस के संरक्षण में धधक रही है अवैध कच्ची शराब की भट्ठीया

रिपोर्ट मोहम्मद असलम ibn24x7news लखीमपुर खीरी
जिला आबकारी अधिकारी और पुलिस प्रशासन की लापरवाही हो रही है उजागर

जहरीली शराब बनाने वालों के हौसले बुलंद,कुटीर उद्योग का रूप ले चुकी है थाना मैलानी की भातू कॉलोनी

आबकारी-स्थानीय पुलिस की मिलीभगत से चल रहा ये गौरखधंधा

मैलानी खीरी – जंगल हो या गांव हर तरफ फलफूल रहा है कच्ची का कारोबार पूरे जिले भर में कच्ची शराब का कारोबार फैला है। आबादी तो छोड़िए दुधवा टाइगर रिजर्व बफरजोन की मैलानी रेंज के आसपास बसे गांव के ग्रामीणों ने जंगल को भी अवैध शराब निकालने का अड्डा बना रखा है। थाना क्षेत्र के अंतर्गत गाँव ककराही ,कोरयानी,सलावतनगर,कंधईपुर , राजामंडी , छेदीपुर और संसारपुर , कुकरा, बांकेगंज के दर्जनों गांवों में अवैध कच्ची शराब माफियों के हौसले दिनों दिन बुलंद होते जा रहे हैं।शाम होते ही इन गाँवो के शराब माफियाओ की दुकानें मुख्य सड़कों पर सज धज कर लग जाती है । इन माफियाओं को न तो आबकारी विभाग का ख़ौफ है और ना ही स्थानीय पुलिस प्रशासन का , अगर अब भी प्रसाशन कुम्भकर्णी निद्रा से नहीं जागा तो वह दिन दूर नहीं जब अवैध शराब माफिया पूरी तरह लोगों को मौत के मुंह में झोंक देंगे। आपको बता दें कि शाम होते ही इन सभी ग्राम पंचायत में पियक्कडो की भीड़ लगना शुरू हो जाती है ।

मैलानी थाना क्षेत्र से महज चार किलोमीटर की दूरी पर स्तिथ राजामंडी की भातू कॉलोनी में दिन रात अवैध कच्ची शराब की भट्ठीया धधकती देखने को मिलती है.शाम होते ही भातू कॉलोनी के बाहर मैन रोड पर इनकी बिक्री का धंधा शुरू हो जाता है और हैरत की बात ये है कि इनको न ही पुलिस का ख़ौफ है और ना ही आबकारी विभाग का. राजामंडी की मुख्य सड़क पर खुलेआम बिकती हुई अवैध कच्ची शराब शासन और प्रशासन को खुलेआम चुनौती दे रही है । आम आदमी का जीना और सड़क से निकलना भी दुश्वार हो रहा है । आबकारी विभाग की उदासहीनता और मिलीभगत के चलते अवैध कच्ची शराब माफियाओं के हौसले और भी बुलंद होते जा रहे हैं। जबकि इस कच्ची जहरीली शराब की वजह से जिले में कई हादसे हो चुके हैं अभी कुछ दिन पूर्व जिले में जहरीली शराब पीने से चार लोगों की मौत हो चुकी है लेकिन फिर भी शराब माफियाओं पर इसका कोई असर आबकारी विभाग और स्थानीय पुलिस की मिलीभगत के चलते दिखाई नहीं दे रहा है।

अब सवाल यह उठता है कि कच्ची शराब जहरीली कैसे बन जाती है? इसको बनाने की प्रक्रिया के बारे में सुनकर आप हैरान हो उठेंगे. जी हां, कच्ची शराब को बनाने में इस्तेमाल होने वाली महुए की लहन को सड़ाने के लिए प्रतिबंधित ऑक्सीटोसिन का इस्तेमाल किया जाता है और कहीं-कहीं इसमें नौसादर और यूरिया भी मिलाया जाता है ।

ऐसे बन जाती है जहरीली कच्ची शराब…

शराब को अधिक नशीली बनाने के चक्कर में जहरीली हो जाती है. सामान्यत: इसे बनाने में गुड़, शीरा से लहन तैयार किया जाता है. लहन को मिट्टी में गाड़ दिया जाता है. इसमें यूरिया और बेसरमबेल की पत्ती डाला जाता है.अधिक नशीली बनाने के लिए इसमें प्रतिबंधित ऑक्सिटोसिन मिला दिया जाता है, जो मौत का कारण बनती है ।

कुछ जगहों पर कच्ची शराब बनाने के लिए पांच किलो गुड़ में 100 ग्राम ईस्ट और यूरिया जैसे घातक पदार्थों को मिलाकर इसे मिट्टी में गाड़ दिया जाता है और लहन उठने पर इसे भट्टीयो पर चढ़ा दिया जाता है. गर्म होने के बाद जब भाप उठती है, तो उससे शराब उतारी जाती है ।

और कैसे होती है मौत?
कच्ची शराब में यूरिया और ऑक्सिटोसिन जैसे कैमिकल पदार्थ मिलाने की वजह से मिथाइल एल्कोल्हल बन जाता है. इसकी वजह से ही लोगों की मौत हो जाती है .मिथाइल शरीर में जाते ही केमि‍कल रि‍एक्‍शन तेज होता है. इससे शरीर के अंदरूनी अंग काम करना बंद कर देते हैं. इसकी वजह से कई बार तुरंत शराब पीने वाले व्यक्ति की मौत हो जाती है. कुछ लोगों में यह प्रक्रिया धीरे-धीरे होती है ।

About IBN24X7NEWS

Check Also

कार व ट्रेलर में आमने सामने से भिड़ंत,दो की मौत

report ajay pandey ibn24x7news chitrakoot देल्हूपुर- प्रयागराज अयोध्या राजमार्ग देल्हूपुर बकुलाही नदी के समीप ट्रेलर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *