jackpot party casino newcasino wont' let me logon silveroak casino bonus codes free money sign up bonus casino usa online casino no deposit codes casino bonus uk start your own online casino
Breaking News

कानपुर : आखिर क्यों लोग घराते है, (हैलट)लाला लाजपत राय मेमोरियल हास्पिटल जाने से

आखिर क्यों लोग घराते है, (हैलट)लाला लाजपत राय मेमोरियल हास्पिटल जाने से
कानपुर :- हर आम व्यक्ति अपने मरीज के सही ईलाज के लिए उसकी जान कैसे बच सके डाक्टर व सरकारी हास्पिटल के चक्र लगाते है। मगर उस सरकारी हास्पिटल मे मरीजों और उनके परिजनों के साथ डाक्टर बहुत ही कष्टदाई एवं दुर्र व्यवहार करते है।जिसका नाम (हैलट)है मै एक पत्रकार के हेसित से इस बात कहे रहू।किस तरीके मरीज के साथ के दुर्र व्यवहार करते है। मरीज अगर ओ पी डी मे जाता है डाक्टर मरीज को मरीज इतना दौड़ाते (1)एक्सरा , भयंकर भीड़ का सामना करते हुए एक से डेड़ घंटा (2)भेज दिया अलट्रासाउड उस जगह की परिस्थिति अलग ही बयां करती हैअगर आप का मरीज ऐडमिड है।
तो ठीक है।तो रिपोर्ट कुछ आधे एक घंटे मिल जायेगी नही तो आप को (15से 30)से दिन तक धैर्य रखना पड़ेगा या फिर आप बाहर से अल्ट्रासाउड कराये वो भी उनके बताए हुए हुए मेडिकल सेन्टर पर अगर (हैलट) के भीतर एक पराईट मेडीकल सेन्टर है ।जो कि (हैलट) परिसर से टच है। वह से भूले चूके करा लिया तो डाक्टर उसे मान्य नही करते है की वो गलत रिपोर्ट देता है। अगर सही मे वो गलत रिपोर्ट देता रहा है। तो (हैलट) के परिसर मे क्यों है।(3) सिटी इस्केन लिखा सिटी इस्केन मे दो से तीन घंटे का समय व्यय हुआ वो रिपोर्ट मरीज को कल शाम को मिलेगी दिये हुवे समय अनुसार के बाद बेचारे मरीज को रिपोर्ट नही मिलती है। कि वो एडमिड करा सके मरीज उसके परिजन जैसे तैसे मरीज ऐडमिड करा दियाअब डाक्टर ये भी नही सही ठंग से बता रहे कि मरीज का आपरेशन होगा की नही है। अगर आपरेशन की स्थिति मे मरीज है तो मेडिकल ईस्टूडेन्ट या डाक्टर के अस्सिटेनट ये कह देते है।की डाक्टर सर समरविकेशन की छुट्टी पर है। 7 से15दिन का समय लगेगा अगर मरीज ये कहता है।
अगर परिजन कहते कि दूसरे डाक्टर देख ले तो वह मेडिकल ईस्टूडेन्ड ये कह देता है। वो कह तो देंगे मगर वो नही मरीज के पास नही जायेगे। मरीज व परिजन असमंजस पड़ जाते है।अगर डाक्टर को उन कार्यशैली या लापरवाही को कहे तो बहुत गुस्से मे परिजनों परिजनों पर विफर हो जाते है। और अपने केबिन से बड़ी से भद्रता से उस मरीज को बाहर भागा देते है।जब हमने ये हाल देखा की कानपुर के मूल्य निवासियों को कठिन परिस्थितियों से गुजर पड़ता है।तो 30से60 किलोमीटर दूर से गाँव देहात कस्बो के आये हूए लोगों के मरीज एवं परिजनों को लापरवाही का कितना सामना करना पड़ता होगा।
 
रिपोर्ट संदीप कुमार ibn24x7news फतेहपुर

About IBN NEWS

It's a online news channel.

Check Also

IPS सुबोध कुमार जयसवाल बने सीबीआई के नये डायरेक्टर

ब्यूरो रिपोर्ट सत्यम सिंह IBN NEWS अयोध्या आखिरकार लम्बी जद्दोजहद के बाद केंद्र सरकार ने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *