झाँसी: आवारा पशुओं के विचरण से परेशान किसानों ने रोकथाम हेतु शासन से लगाई गुहार

आवारा पशुओं के विचरण से परेशान किसानों ने रोकथाम हेतु शासन से लगाई गुहार

झाँसी 30 जुलाई– जिले के ग्रामीण इलाकों में आवारा पशुओं के विचरण से किसानों को खेतों में खड़ी हरी भरी फसलों की रखवाली करने के लिए दिन रात एक करने के वावजूद फसलों को बचाना मुश्किल हो रहा है। परेशान किसानों ने आवारा पशुओं को गौशाला में भिजवाने की प्रशासन से मांग की है।
जानकारी के अनुसार दर्जनों ग्रामो में सैकड़ों की संख्या में आवारा पशु घूम रहे हैं। यह आवारा पशुओं के झुंड किसानों के खेतों में लगी हरी भरी फसलों को बर्बाद कर रहे हैं। किसान दिन रात खेतों की रखवाली करने से परेशान हैं।किसानों का कहना है कि इस वर्ष समय से वर्षा होने के कारण फसल उग कर अच्छी तैयार हो रही हैं।लेकिन आवारा विचरण कर रहे पशुओं से फसलों को बचा पाना मुश्किल लग रहा है।
एक ओर सरकार द्वारा अन्ना प्रथा की रोकथाम के लिए काफी प्रयास किये जा रहे हैं।

लेकिन लोग अपने पालतू पशुओं को आवारा छोड़े हुए हैं। जो किसानों की फसलों को चौपट कर रहे हैं। किसानों ने आवारा पशुओं को छोड़ने बाले पशु पालकों के खिलाफ कार्यवाही करने एवं आवारा पशुओं के विचरण को रोकने की शासन से मांग की है। गत दिवस झाँसी खजुराहो राष्ट्रीय राजमार्ग पर सैकड़ों की तादाद में अन्ना जानवरों के विचरण ने कुछ समय के लिए मार्ग से गुजरने बाले वाहनों के चक्के थम गए। सैकड़ों की संख्या में अवारा छुट्टा जानवरों के फसलों को उजाड़ते देख परेशान किसानों ने अन्ना जानवरों को बेतवा पुल के पास स्थित ओरछ़ा के जंगलों की तरफ खदेड़ा दिया।

रिपोर्ट महेंद्र सिंह सोलंकी ibn24x7news झाँसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

WhatsApp For any query click here