Breaking News

झाँसी: दुपहरी की तपती धूप और लू ने ली बृद्ध किसान चरवाहे की जान

दुपहरी की तपती धूप और लू ने ली बृद्ध किसान चरवाहे की जान
झाँसी 9 जून। लहचूरा थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम नयागांव में खेत पर बकरियां चराने गया 60 वर्षीय किसान की लू लग जाने से पेड़ के नीचे मौत हो गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर विच्छेदन के लिए मऊरानीपुर भेज दिया।
जानकारी के अनुसार थाना लहचूरा क्षेत्र अंतर्गत आने वाले ग्राम नयागांव निवासी हीरा आदिवासी पुत्र वंशी 60 वर्ष नयागांव जंगल व धसान नदी के किनारे बकरी चराने के गया था। शाम को जब बकरियां घर वापस आ गई लेकिन चरवाहा नहीं पहुंचा। तो उसकी खोजबीन पुत्र गोरेलाल ने की। लेकिन रात्रि हो जाने से कहीं अता-पता नहीं चला। शुक्रवार की सुबह जंगल के पास करन सिंह के खेत पर लगे महुआ के पेड़ के नीचे हीरा सहारिया मृतक अवस्था पड़ा मिला। जिसकी सूचना लहचूरा थाना पुलिस को दी गई।
मौके पर पहुंचे थाना प्रभारी एवं उप निरीक्षक ने शव का पंचनामा भरकर विच्छेदन के लिए मऊ रानीपुर भेजा। तथा उप जिलाधिकारी एवं तहसीलदार को दूरभाष पर किसान की मौत के बारे में अवगत कराया। ग्रामीणों ने बताया कि जहां पर शव पड़ा हुआ था उस जगह प्याज की गठिया, पानी की खाली बोतल एवं कुल्हाड़ी पड़ी हुई थी। जिससे प्रतीत होता है कि लू लगने से वृद्ध किसान की मौत हुई है। ग्राम के रामाधीन विश्वकर्मा ने हल्का लेखपाल को सूचित कर बताया कि मृतक के नाम 1 एकड़ जमीन पर 60 हजार रुपयों का किसान कार्ड बना हुआ है। गरीबी में जीवन यापन कर 2 लड़के एवं वृद्ध पत्नी का भरण पोषण करता था। ग्राम के हरि सिंह राजपूत, धन प्रसाद राजपूत, रामाधीन विश्वकर्मा,भान प्रताप यादव, अशोक राजपूत, मनीराम बरार, मनका, भीमा आदिवासी आदि ग्रामीणों ने शासन-प्रशासन से परिवार के भरण पोषण एवं आर्थिक सहायता दिए जाने की मांग की है।
 
रिपोर्ट महेंद्र सिंह सोलंकी ibn24x7news झाँसी

About IBN NEWS

It's a online news web channel running as IBN24X7NEWS.

Check Also

प्लेस्टोर से हटा paytm, अब आप नहीं कर पाएंगे डाउनलोड

One97 कम्युनिकेशंस लिमिटेड के स्वामित्व वाला ऐप, Google Play Store पर खोजा नहीं जा रहा …

4 वर्षीय शिशु का नागपुर से अपहरण, अपहरणकर्ता इंदौर क्राईम ब्रांच की गिरफ्त में

★ इंदौर से दिल्ली जाने के लिये बुक करा चुका था वोल्वो बस का टिकट, …

14 सितंबर को हिंदी दिवस का महत्व , आखिर क्यों जरूरी है हिंदी दिवस को मनाना

  लेखक:- पंडित अनूप मिश्रा पत्रकार 4 सितंबर को हिन्दी दिवस के रूप में मनाया जाता है। 14 …

रक्षा पर संसदीय पैनल के समक्ष बिपिन रावत पेश हुए

नई दिल्ली: लद्दाख में एलएसी के साथ भारत और चीन के बीच लंबे समय तक …

फ़िरोज़ाबाद: जमीनी विवाद में चले लाठी-डंडे वृद्ध घायल

फ़िरोज़ाबाद के थाना खैरगढ़ क्षेत्र के अंतर्गत जमीनी विवाद को लेकर परिवार के ही ताऊऔर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp For any query click here