Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / देवरिया – भागवत जीवन का दर्पण है.साध्वी पदमहस्ता भारती जी

देवरिया – भागवत जीवन का दर्पण है.साध्वी पदमहस्ता भारती जी

Ibn24x7news रिपोर्ट

*भागवत जीवन का दर्पण है। यह जीवन की एक आदर्श संहिता है। इसके श्रवण मात्र से कल्याण नहीं बल्कि आचरण में लाने से भागवत फलदाई होगा। नारदजी ने किस प्रकार मंत्रविद से आत्मविद होने का सफर तय किया। स्वयं कोकेवल शास्त्र -ग्रंथों के पठन-पाठन तक ही सीमित नहीं रखा। उसका मंथन कर सार भाव को ग्रहण किया। फिर आत्मज्ञान की प्राप्ति हेतु। ब्रह्मनिष्ठ गुरु के समक्ष अपनी गुहार रख दी। तब कहीं जाकर। महान शास्त्र ग्रंथों के पठन-पाठन उनके जीवन में सार्थक सिद्ध हो पाया। ठीक उसी प्रकार जैसे किसी फल के रूप रंग आकार व स्वाद के विषय में पुस्तक से एकत्र की गई जानकारी तभी लाभप्रद सिद्ध होती है। जब जानकारी के आधार पर वैसे ही फल ग्रहण कर लिए जाएं।* इन्हीं दिव्य परिणामों के साथ कथा व्यास साध्वी पदमहस्ता भारती जी ने तृतीय दिवस की कथा का शुभारंभ किया। शिवाजी इंटर कॉलेज प्रांगण खुखुंदू बाजार देवरिया, उत्तर प्रदेश के प्रांगण में। दिनांक 10 से 16 फरवरी2020 तक। आयोजित। श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के तृतीय दिवस। मिस्त्री आशुतोष महाराज की साध्वी शिष्या सुश्री पदमहस्ता भारती जीने भक्त अमरीश की। भक्ति दर्शन। की व्याख्या सरस व समकालीन समाज के संदर्भ में प्रस्तुत की। व श्रीकृष्ण कृष्ण जन्म प्रसंग को प्रस्तुत किया। कथा प्रसंगों में। प्रभु श्री कृष्ण का जन्म भी। शामिल था जिसे नंदोत्सव के रूप में मनाया गया। मैं सभी नर नारी वह बच्चों ने। खूब आनंद लिया बहुत सारे बच्चे। श्रीकृष्ण की शाखा बनने की इच्छा से सज धज कर पीले वस्त्र पहनकर इस उत्सव में शामिल हुए नंदोत्सव की छटा। अद्भुत ही ऐसा प्रतीत होता था मानो समूचा पंडाल ही गोकुल बन गया हो एवं सभी नर नारी गोकुल वासी केवल ग्वाल बालों के रूप में सजे बच्चों ने ही नहीं बल्कि सभी आगंतुकों ने श्री कृष्ण जन्म के अवसर पर खूब माखन मिश्री का प्रसाद पाया श्री कृष्ण जन्म के अवसर पर। इस प्रसंग में छुपे हुए आध्यात्मिक रहस्य का निरूपण करते हुए साध्वी जी ने बताया कि जब इस धरा पर धर्म की हानि होती है। अधर्म अत्याचार व अन्याय अनैतिकता बढ़ती है। तब-तब धर्म की स्थापना के लिए करुणानिधान ईश्वर अवतार धारण करते हैं। श्रीमद्भागवत गीता में श्रीकृष्ण भगवान श्री कृष्ण जी। कहते हैं।
*यदा यदा हि धर्मस्य। ग्लानिर्भवति भारत अभ्युत्थानमधर्मस्य तादात्मन्ं सृजाम्यहम*।
प्रभु का अवतार धर्म की स्थापना के लिए अधर्म का नाश करने के लिए साधू सज्जन पुरुषों का परित्राण करने के लिए और असुर अधम अभिमानी दुष्ट प्रकृति के लोगों का विनाश करने के लिए होता है। साध्वी जी ने बताया कि धर्म कोई वह वस्तु नहीं धर्म वह प्रक्रिया है जिसे परमात्मा को अपने अंतर्घट में भी जाना जाता है। स्वामी विवेकानंद जी कहते हैं परमात्मा का साक्षात्कार ही धर्म है। जब जब मनुष्य ईश्वर भक्ति के सनातन पुरातन मार्ग को छोड़कर मनमाना आचरण करने लगता है तो इससे धर्म के संबंध में अनेक भ्रांतियां फैल जाती है। धर्म के नाम पर विद्वेष, लड़ाई ,झगड़े भेदभाव अनैतिक आचरण होने लगता है तब तब प्रभु अवतार लेकर इन वाह्य आडंबरों से त्रस्त मानवता में *ब्रह्मज्ञान* के द्वारा प्रत्येक मनुष्य के अंदर वास्तविक धर्म की स्थापना करते हैं। श्री कृष्ण का प्राकट्य केवल मथुरा में ही नहीं हुआ उनका प्राकट्य तो प्रत्येक मनुष्य के अंदर होता है। जब किसी तत्वदर्शी ज्ञानी महापुरुष की कृपा से उस ब्रह्म ज्ञान की प्राप्ति होती है। जिस प्रकार श्रीकृष्ण के जन्म से पहले घोर अंधकार था कारागार के ताले बंद थे पहरेदार सजग थे और इस बंधन से छूटने का कोई रास्ता नहीं था। ठीक इसी प्रकार ईश्वर साक्षात्कार के अभाव में मनुष्य का जीवन घोर विषय विकार रूपी पहरेदार इतने सजग होकर के पहरा देते हैं। और उसे कर्म बंधनों से बाहर नहीं निकलने देते। परंतु जब किसी तत्वदर्शी महापुरुष की कृपा से परमात्मा का प्राकट्य मनुष्य के हृदय में होता है तो परमात्मा के दिव्य रूप प्रकाश से समस्त अज्ञान रूपी अंधकार दूर हो जाते हैं। विषय विकार रूपी पहरेदार सो जाते हैं। कर्म -बंधनों के ताले खुल जाते हैं और मनुष्य की मुक्ति का मार्ग प्रशस्त हो जाता है। इसलिए ऐसे महापुरुष की शरण में जाकर हम भी ब्रह्म ज्ञान को प्राप्त करें तभी हम सभी कृष्ण जन्म के प्रसंग का वास्तविक लाभ उठा पाएंगे। इस कथा की मार्मिकता और रोचकता से प्रभावित होकर अपार जनसमूह के साथ साथ शहर के विशिष्ट नागरिक भी इस कथा प्रसंगों को श्रवण करने के लिए पधारे श्रीमद् भागवत कथा में भाव विभोर करने वाले मधुर संगीत से ओतप्रोत भजन संकीर्तन। श्रवण कर भक्तों श्रद्धालु मंत्रमुग्ध होकर झूमने को मजबूर हो गए।

About IBN24X7NEWSMD

Check Also

तीन युवकों ने मिलकर नाबालिग के साथ किया दुष्कर्म, तीनों भेजे गए जेल

  सलेनपुर कोतवाली छेत्र के एक गाँव में तीन युवकों में एक ने नाबालिग युवती …

सीएससी महिला दिवस पर सीएससी संचालकों ने नारी शक्ति को किया सम्मानित

जनपद के कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध …

जिले मे आज भी पाए गए कोरोना के 44 नए मरीज

जिले मे कोरोना ने भयावह स्थिति पैदा कर दी हर जगह ईसी बिमारी कि चर्चा …

बोर्ड परीक्षा मे विद्यालय टाप करने पर जश्न का माहौल

  जिले के चिलकहर क्षेत्र के नराछ निवासी प्रिया यादव ने देवस्थली विद्यापीठ मे 97’2% …

तेज रफ्तार कार ने मारी गाय क़ो जोरदार टक्कर,गाय गम्भीर रूप से घायल

      आज जिले के पुलिस लाइन खेल मैदान के सामने फायर स्टेशन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp For any query click here