पश्चिमी चम्पारण – नैतिक जागरण मंच वेलफेयर ट्रस्ट द्वारा आयोजित होने वाले सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता परीक्षा का नाम अनुमंडल स्तरीय मेधा मूल्यांकन परीक्षा प्रतियोगिता

Ibn24x7news विजय कुमार शर्मा प,च,बिहार
इस परीक्षा को चार स्तर पर एक ही दिन आयोजित किया जाता है। जिसे ग्रुप A,B ,C,D में विभाजित किया गया है।A ग्रुप में दसवीं कक्षा के छात्र आते हैं । चाहे वे CBSE बोर्ड के हो या बिहार बोर्ड के। दोनों बोर्ड के बच्चे भाग लेते हैं। प्रश्न बिहार बोर्ड और सीबीएसई बोर्ड के किताब से दिए जाते हैं। जो दोनों में common lesson होता है उन्हीं पर आधारित प्रश्न होते हैं ।प्रश्न हिंदी और इंग्लिश दोनों माध्यमों में होते हैं। जिसको बच्चे ओएमआर शीट के माध्यम से अपने उत्तर देते हैं। ग्रुप b c d में बच्चों को जीके की पुस्तक देकर तैयारी कराई जाती है ।ग्रुप B में आठवीं और 9वीं कक्षा के छात्र होते हैं। ग्रुप सी में छठे और सातवें कक्षा के बच्चे होते हैं। ग्रुप Cमे कक्षा प्रथम से लेकर 5 वीं तक के बच्चे को सम्मिलित किया जाता है। b c d के बच्चों को किताब दी जाती है उसी से प्रश्न पूछे जाते हैं। पुस्तक उन्हें उसी ₹75 फार्म के दाम पर दी जाती है । अलग से कोई रुपया नहीं लगता ।प्रश्न हिंदी माध्यम में होते हैं क्योंकि पुस्तक हिंदी की होती है। फार्म किसी भी ग्रुप मे भराना हो ₹75 निर्धारित हैं। जो 5 अगस्त2018 से लेकर 30 अक्टूबर 2018 तक भरा जाता है। लेकिन वर्ग प्रथम से लेकर नवम तक यानी ग्रुप b c d वाले बच्चों को फार्म जितना जल्दी मरेंगे उतनी ही जल्दी उन्हें पुस्तक मिलेगी अतः उन्हें शीघ्र ही फार्म भरना चाहिए। 10 वी कक्षा के बच्चों को फार्म थोड़ा विलंब से भी भरते हैं तो काम चल सकता है ।पर ध्यान रहे कि अक्टूबर तक फार्म भरने का अंतिम डेट होता है। उसके बाद एडमिट कार्ड विद्यालय के बच्चों को उनके प्रिंसिपल के माध्यम से उपलब्ध कराई जाती है ।परीक्षा की तिथि 30 दिसंबर 2018 दिन रविवार को है। परिणाम की घोषणा 3 फरवरी 2019 को होगी ।जिसमें सभी बच्चों को प्रतिभागिता प्रतिभागिता प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया जाता है। इसके अलावा प्रत्येक विद्यालय के सर्वाधिक अंक लाने वाले (संख्या के अनुसार) तीन या चार बच्चों को परिणाम घोषणा के दिन एक विशेष प्रकार का कार्ड जो प्रतिभागिता प्रमाणपत्र होता है मेडल के साथ दिया जाता है और संख्या के अनुसार कितनी संख्या में विद्यालय द्वारा फार्म भरा गया होता है उसके प्रधान शिक्षक को उपहार देकर के सम्मानित किया जाता है। उसके बादप्रत्येक ग्रुप के प्रथम द्वितीय तृतीय या सांत्वना के लिए चयनित होते हैं उन्हें उनका पुरस्कार या निर्धारित धनराशि उनके प्रधानाचार्य या भेजे गए शिक्षक के उपस्थिति में देकर प्रोत्साहित किया जाता है। यह निश्चित तौर पर एक सुनहरा अवसर है। हम सभी के लिए इसलिए मैं कहूंगा कि व्यर्थं जाकर किसी भी प्रकार का संदेश किए बिना बच्चों के भविष्य से न खेलते हुए बच्चों को फार्म जरूर भरवाए ।आप महसूस कर सकते हैं कि इतने कम राशि में इतनी सारी व्यवस्थाएं कर पाना बड़ा मुश्किल है ।लेकिन बच्चों के भविष्य को उज्जवल बनाने के लिए नैतिक जागरण मंच कटिबद्ध है। हमें ना देखें आप अपने बच्चों का भविष्य देखें ईष्या का त्याग कर निश्चित ही फार्म भरवाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp For any query click here