Breaking News
Home / बिहार / बगहा प,च,:-छोटी-छोटी बातों पर टूटते सात बंधनों के रिश्ते

बगहा प,च,:-छोटी-छोटी बातों पर टूटते सात बंधनों के रिश्ते

Ibn24x7news विजय कुमार शर्मा बगहा प,च,की कलम से सम्पादकीय

जब किसी के घर बेटी पैदा होती है , तो मां बाप उसको लक्ष्मी समझते हैं ,और उसको बहुत प्यार से शिक्षा दिलाने की कोशिश करते हैं , उसके लिए अच्छे से अच्छे रिश्ते ढूंढ कर अपनी हैसियत से ज्यादा बेटी की शादी पर खर्च करते हैं , खुद साधारण जीवन बिताते हैं , पर कोशिश करते हैं उनकी बेटी को दुनिया की हर कीमती वस्तु दे ।
बेटी विदा होकर अपने पति के साथ नए जीवन की शुरुआत करती है , अक्सर देखा गया है कुछ महीनों के बाद अक्सर पति अपने रंग दिखाना शुरू कर देते हैं छोटी-छोटी बातों पर पत्नी के साथ मारपीट करना और उसके घर वालों को दहेज के लिए ताने देना । घटन, दहेज में बाइक नहीं मिलने पर पति अपनी पत्नी से मारपीट करता है एवं मानसिक एवं शारीरिक रूप से पत्नी को प्रताड़ित करता है , इससे तंग आकर पत्नी ने अपने ऊपर तेल डालकर आग लगाकर या खुदखुशी कर लेती है
दहेज में मोटरसाइकिल नहीं मिलने कारण पत्नी की जान की बलि चढ़ जाती है
भारत में दहेज प्रताड़ना के मामले बढ़ते जा रहे हैं ,देश में औसत हर एक घंटे में एक महिला दहेज के नाम पर बलि पर चढ़ाई जाती है , पिछले 3 साल के आंकड़े देखें 24771 महिलाओं की हत्या दहेज के नाम पर की गई ।
हम लोगों को क्या हो गया है ?हम लोग इतने लालची क्यों हो गए हैं,
एक छोटी सी कहानी पति पत्नी के बीच मधुर संबंधों को लेकर मैं आपको बताता हूं ,
सुरेश एवं मालती का विवाह बड़ी धूमधाम से हुआ , मालती बहुत सुंदर , सुशील थी , सुरेश अपनी पत्नी से बहुत प्रेम करता था । रोजगार के सिलसिले में उसको विदेश जाना पड़ा ,इस बात को लेकर मालती बहुत उदास थी सुरेश ने अपनी पत्नी को समझाया कुछ सालों की बात है मैं पैसा कमा कर वापस आऊंगा अपनी गृहस्ती बहुत सुकून से चलेगी , सुरेश विदेश चला जाता है, कुछ दिनों के बाद मालती की तबीयत खराब हो जाती है, और मालती को कुष्ठ रोग हो जाता है मालती के माता पिता उसका इलाज करवाते हैं कुछ महीनों में कुष्ठ रोग तो ठीक हो जाता है ,पर मालती का चेहरा वीभत्स हो जाता है , जब मालती ने अपना चेहरा आईने में देखा तो अपना चेहरा देख कर डर गई , और मन ही मन सोचने लगती है ,की उसका पति सुरेश उसको तलाक दे देगा , इस बीच सुरेश विदेश से लौट आता है उसकी आंखों पर काला चश्मा लगा रहता है ,और वह अपनी पत्नी से कहता है की एक सड़क दुर्घटना में उसकी दोनों आंखों की रोशनी चली गई यह सुनकर मालती बहुत अफसोस करती है ,और अपने पति के कंधे पर हाथ रख कर बोलती है ,सुरेश तुम चिंता मत करो ,मैं तुम्हारी आंखों की रोशनी बनूंगी तुमको किसी काम में कोई परेशानी नहीं होगी । समय बीतता जाता है । मालती , सुरेश का बहुत ध्यान रखती हैं , एक दिन अचानक मालती की तबीयत खराब हो जाती है ,और उसी के चलते मालती की मृत्यु हो जाती हैं , सुरेश गुमसुम एक कोने में बैठा अपनी पत्नी को देखता रहता है , और आंखों से आंसू बहते रहते हैं ,पड़ोसी आकर सुरेश से दुख व्यक्त करते हैं और बोलते हैं अब आपका जीवन कैसे कटेगा आपको आंखों से नहीं दिखता अब आप क्या करेंगे ,सुरेश अपना चश्मा उतार कर , अपने पड़ोसियों से कहता है मेरी आंखें बिल्कुल ठीक है , मुझको सब कुछ साफ-साफ दिखता है ,पर मेरी पत्नी मालती को यह डर था अगर मैं उसका बिगड़ा हुआ चेहरा देख लूंगा तो शायद मैं उसको छोड़ दूंगा यह होता हैसच्चा प्रेम।

About IBN24X7NEWS

Check Also

पटना के पॉश इलाके में ट्रिपल मर्डर की वारदात ने पूरे शहर में सनसनी फैला दी है

रिपोर्ट कुंदन कुणाल ibn24x7news पटना पटना के कोतवाली कॉलोनी थाना इलाके के किदवईपुरी में ट्रिपल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *