बेतिया: कन्या भ्रूण हत्या घिनौना एवं निंदनीय कार्य समाज पर कलंक।

कन्या भ्रूण हत्या घिनौना एवं निंदनीय कार्य समाज पर कलंक
कन्या भ्रूण हत्या इस सभ्य समाज के लिए एक घृनातमक, निंदनीय है तथा समाज को कलंकित करने के लिए उठाया गया एक कदम होगा। इस सभ्य समाज में लोगों की नैतिकता इतनी गिर गई है के अपने परिवार के ही लोगों के द्वारा कन्या भ्रूण हत्या करने का एक मिजाज बन गया है लोगों का यह सोच बहुत ही घटिया है के बच्चा होने पर खर्च की अधिकता बढ़ जाएगी और जीवन व्यतीत करने में कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ेगा मगर लोग यह नहीं सोचते हैं कि कन्या भ्रूण हत्या कराने वाला इंसान तो क्या भगवान की नजर में भी बहुत बड़ा अपराधी बन जाता है।
इस समाज में ऐसे लोग भी हैं जो बच्चों के लिए तरस रहे हैं मगर उन्हें संतान नहीं प्राप्त हो पा रहा है इसके लिए कई प्रकार की दवाइयां के साथ मौलवी मौलाना वह पंडितों का चक्कर के साथ मंदिरों का भी चक्कर लगाने के लिए तैयार रहते हैं कि कैसे भी भगवान के माध्यम से एक संतान की उत्पत्ति हो जाए ठीक इसके विरुद्ध कन्या भ्रूण हत्या करने वाले कि कोई नैतिकता नहीं रह गई है प्रतिदिन यह सुनने को मिलता ह की कन्या भ्रूण हत्या करने के लिए या इसको छिपाने के लिए लोग गंदे कचरे पर अपने द्वारा पैदा हुए संतानों को जानवरों की खुराक बना देते हैं यह ऐसी घटना है जिसकी जितनी भी निंदा की जाए वह बहुत कम होगी।
कन्या भ्रूण हत्या करने वालों पर सरकार की ओर से एक बहुत बड़ा कदम उठाया गया है जिसे स्वास्थ्य विभाग ने गंभीरता से लेते हुए इस तरह के निंदनीय कार्य करने वालों पर सख्त से सख्त कार्रवाई करने की कार्यक्रम बनाया है इसके लिए 5 सदस्य टीम की घोषणा की गई है। कन्या भ्रूण हत्या होने वाले स्थानों पर जहां नर्सिंग होम है अवैध तरीके। से नर्सिंग होम चलाने वालों अवैध तरीके से क्लीनिक खोलने वालों पर कार्रवाई करने की योजना बनाई गई है इस टीम का संचालक जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉक्टर संजय रज्जाक, महिला चिकित्सा पदाधिकारी डॉक्टर मन्नू प्रियदर्शनी जिला कार्यक्रम प्रबंधक जिला स्वास्थ्य समिति बेतिया एवं जिला कार्यक्रम सूचना पाकर प्रबंधक पदाधिकारी को इस समिति में शामिल किया गया है।
कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग के द्वारा जो टीम चयनित की गई है इसकी सूचना पाकर अवैध नर्सिंग होम चलाने वाले अवैध तरीके से बिना रजिस्ट्रेशन के क्लीनिक खोलकर डॉक्टरों के द्वारा अवैध तरीके से राशि वसूल कर कन्या भ्रूण हत्या करने का मामला प्रकाश में आया है इस पर रोक लगाने के लिए जो टीम गठित की गई है इससे अवैध नर्सिंग होम संचालकों पर गाज गिरने वाली है क्योंकि इन्हीं के द्वारा कन्या भ्रूण हत्या करने का मामला प्रकाश में आता है और कन्या भ्रूण हत्या के मामले में कूड़ा कचरा एवं गंदी जगह पर हत्या की नियत से फेंका गया नवजात शिशु को जानवरों का खुराक बनाकर आप बिटोरा जा रहा है।
कन्या भ्रूण हत्या का मामला प्रकाशित होने पर स्वास्थ्य विभाग की निंद्रा खुली है इसके पूर्व में भी कई बार कन्या भ्रूण हत्या का मामला प्रकाश में आया था मगर कोई ध्यान नहीं दिया गया अगर पूर्व में इस पर ध्यान दिया गया होता तो इस तरह के कुकृत्य सामने नहीं आती जो सभ्य समाज के लिए कलंक जैसा है।
 
रिपोर्ट विजय कुमार शर्मा ibn24x7news  बिहार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp For any query click here