मिर्जापुर: विवाहिता ने लगाई फांसी, मामला प्रेम प्रसंग

विवाहिता ने लगाई फांसी, मामला प्रेम प्रसंग
प्यार करने वालों की नजरों में जात – पात, उम्र का बंधन, सामाजिक सीमाएँ, धन दौलत की असमानता, पारिवारिक प्रस्थिति और शारीरिक सौंदर्यता सब बेईमानी लगती है। समाज भले पाणि ग्रहण संस्कार से बांध दे लेकिन प्यार में उड़ते पंक्षी इस जाल को भी ले उड़ते हैं। घटना अहरौरा थाना क्षेत्र के जिगना ग्राम की है। जहां की रहने वाली एक विश्वकर्मा जाति की वैवाहिक लड़की उम्र छब्बीस वर्ष की आंखें चार गांव के ही शादीशुदा विजय विंद से हो गई।शादीशुदा विवाहिता संतान से महरूम थी। दोनों का प्रेम परवान चढ़ने लगा। जीने मरने की कसमें शारीरिक सुगंधों के बीच खाई जाने लगी। लड़की जहाँ अपने प्रेम प्रसंग को लेकर गंभीर थी वहीं विजय विंद विवाहिता के साथ प्यार का खेल खेल था क्योंकि इस खेल के बाद वह अपने ससुराल चली जायेगी और उसका मन बहलाव प्रेम की पूर्ति हो जायेगी परंतु विवाहिता ने विजय को स्वीकार करने का दबाव बनाया तो वह इंकार कर दिया। विजय की सच्चाई सामने आ गयी। वह न घर की रही न घाट की। उसने गांव के एक बगीचे में जाकर पेड़ की डाल के सहारे फांसी लगा ली। उसकी मौत हो गई। गांव में कोलाहल हो गया। सूचना पर अहरौरा पुलिस मौके पर पहुँची। शव को कब्जे में ले लिया और थाने ले आई। मौत की सत्यता की जाँच के लिए शव विच्छेदन गृह चुनार भेजा गया है। अहरौरा थाने में लड़की के पिता राधेश्याम विश्वकर्मा की ओर से एक तहरीर दी गई है जिसमें विजय विंद को आत्महत्या के लिए प्रेरित करने का आरोप लगाया गया है। अहरौरा पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपी के विरूद्ध 189/18 धारा 306 आई पी सी का अभियोग पंजीकृत किया है।सूत्रों के मुताबिक थाना प्रभारी मनोज कुमार सिंह के नेतृत्व में आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए दबीश दी गई लेकिन वह समाचार लिखे जाने तक फरार बताया जा रहा है।
इसे प्रेम प्रसंग माना जाय या यौवनावस्था का शारीरिक आकर्षण इसे लेकर ग्रामीणों में चर्चा थी लेकिन मृतका के परिजनों में स्तब्धता और मातम का दौर है।
रिपोर्ट- हरिकिशन अग्रहरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp For any query click here