Breaking News
Home / उत्तरप्रदेश / राजगढ़, मिर्जापुर: सांसद आदर्श गांव में कोटेदार द्वारा नहीं दिया जा रहा है कार्डधारकों को अनाज,भुखमरी के स्थित में पहुँचे ग्रामीण मजदूर, कई बार शिकायत के बाद भी नहीं खुली अधिकारियों की नींद

राजगढ़, मिर्जापुर: सांसद आदर्श गांव में कोटेदार द्वारा नहीं दिया जा रहा है कार्डधारकों को अनाज,भुखमरी के स्थित में पहुँचे ग्रामीण मजदूर, कई बार शिकायत के बाद भी नहीं खुली अधिकारियों की नींद

राजगढ़,मड़िहान ,मिर्जापुर।स्थानीय तहसील क्षेत्र के सांसद आदर्श गांव देवरी उत्तर में विगत पाँच माह से खाद्यान्न का वितरण नहीं होने से सैकड़ों ग्रामीण मजदूर भूखमरी के कगार पर पहुँच चुके है ये मजदूर भूखे पेट सोने को मजबूर हो चुके है।बताया जाता है कि पाँच माह से ग्रामीण खाद्यान्न लेने हेतु कोटेदार के पास जाता है तो उक्त कोटेदार खाद्यान्न ना मिलने की बात कहकर ग्रामीणों को वापस घर भेज देता है ।
ग्रामीण कई बार तहसील दिवस में प्रार्थना पत्र के माध्यम से खाद्यान्न ना मिलने की गुहार भी लगाये थे किन्तु तहसील दिवस पर दिये गये प्रार्थना पत्र को भी तहसील कर्मियों ने ठण्डे बस्ते में डाल दिया जिससे ग्रामीण भूखे पेट सोने तथा बाहर पलायन करने की स्थित के कगार पर पहुँच गये है।मजे कि बात तो यह है कि जिस गांव को केंद्रीय राज्य मंत्री व स्थानीय सांसद अनुप्रिया पटेल गोद लीं हो भला उस गांव में गरीबों को सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिलना तथा भूखें पेट ग्रामीणों को सोने के लिये विवश होना पड़े यह अपने आपमें कितनी बड़ी अधिकारियों के लिये शर्मिंदगी हो सकती है।
बता दें कि एक ओर प्रदेश के मुखिया योगिआदित्यनाथ जहाँ गरीबों के हितैषी बताते है वही इनके ही मातहतों ने गरीबों के हक को पचाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहें है।2019 का चुनाव सिर पर मौजूद होने के बावजूद स्थानीय सांसद भी अपने गांव की सुध शायद नहीं ले पा रही है जिससे ग्रामीणों के हक व अधिकारों पर स्वतःकर्मचारी ही अपना हाथ – पांव मारकर पचाने में लगे है।देश के मुखिया व प्रदेश के मुखिया जहाँ भ्रष्टाचार नहीं होने की बात को कहने में कोई कोर कशोर नहीं छोड़ते |
वही सरकार के मातहतों ने सरकारी योजनाओं पर दिन दहाड़े डकैती करते नजर आ रहें है।सरकार जितना ही भ्रष्टाचार दूर करने की प्रयास कर लें किन्तु जनपद के अधिकारी/कर्मचारी भ्रष्टाचार को खत्म नहीं होने देंगे जिससे ग्रामीण कई बार अपनी शिकायत अधिकारियों से किये किन्तु अधिकारी ग्रामीणों की एक भी ना सुनी व प्रार्थना पत्र को लेकर ठण्डे बस्ते में डालकर चुप्पी ही साध लेते है।सूत्र बताते है कि कोटेदार अनाज को व्यापारियों के हाथ बेचकर मलाई काट रहें है जबकि जाँच के नाम पर अधिकारियों द्वारा लीपापोती कर दिया जाता है।
रिपोर्ट वेद प्रकाश मिश्र ibn24x7news

About IBN NEWS

It's a online news channel.

Check Also

सिटी मजिस्ट्रेट ने किया मतदान स्थल का दौरा।

  रिपोर्ट योगेश श्रीवास्तव गोरखपुर।सिटी मजिस्ट्रेट अभिनव रंजन श्रीवास्तव ने मतदान शुरू होने के बाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *