Breaking News

बेतिया-पेट्रोलियम पदार्थों की दामों में बेतहाशा वृद्धि के विरोध में 21 राजनीतिक विरोधी पार्टियों का भारत बंद का मिलाजुला असर


विजय कुमार शर्मा प,च,बिहार
पेट्रोल डीजल रसोई गैस राफेल सौदा एवं आवश्यक खाद्य पदार्थ सामानों की बेतहाशा वृद्धि को लेकर कांग्रेस एवं अन्य 21 राजनीतिक विरोधी पार्टियों का भारत बंद हो की सफलता पर प्रश्नचिन्ह तो नहीं लग सकता है मगर इसका मिलाजुला असर देखने को मिला है। पश्चिम चंपारण जिला के बेतिया शहर में इन विरोधी पार्टियों के द्वारा भारत बंद का जो आह्वान किया गया था उसमें सभी राजनीतिक विरोधी दलों ने अपने पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ एक भव्य जुलूस निकालकर सभी विरोधी दलों के नेताओं ने पूरे शहर का भ्रमण किया इस के क्रम में सभी दुकानों को बंद कराया तथा सभी चौक-चौराहों पर खड़ा होकर नारेबाजी करके भाजपा के केंद्र शासित सरकार के विरोध में एकजुटता दिखाते हुए सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं इन विरोधी पार्टियों के संयुक्त बयान में यह कहा गया है कि भाजपा के केंद्र शासित सरकार ने देशवासियों के सामने एक बहुत बड़ाी समस्या खड़ी कर दी है जिसका निराकरण करने में संभोग लगता है कि केंद्र सरकार सक्षम नहीं है।
पेट्रोल डीजल रसोई गैस के अलावा अन्य खाद्य सामग्रियों कि दामों में जो प्रतिदिन बढ़ोतरी की जा रही है इससे पूरे देशवासी आर्थिक संकट में पड़ गए हैं यही कारण है कि देशवासियों के सामने यह समस्या खड़ी हो गई है कि इस सरकार को अक्षम लोगों के पास हाथ में इसकी बागडोर चली गई है जो देश वासियों के लिए खतरे की घड़ी बनती जा रही है। प्रतिदिन पेट्रोल और डीजल के दामों में बढ़ोतरी यह दर्शाती है कि केंद्र सरकार को अपनी सरकार चलाने में अक्षम लोगों के हाथों में जो देश वासियों ने अपनी ताकत को देखकर बहुत बड़ा धोखा खाया है अगर इसी तरह पेट्रोलियम पदार्थों में अन्य सामानों के दाम बढ़ते रहेंगे तू यह देशवासी इस बात पर सोचने पर मजबूर होंगे कि भाजपा शासित केंद्र सरकार को पूरे देश से हटा दिया जाएगा इसके अलावा जिन राज्यों में भाजपा शासित सरकारें हैं वह भी अक्षम नजर आ रही हैं।
कांग्रेस पार्टी के द्वारा 21 राजनीतिक विरोधी पार्टियों का सहयोग लेकर पूरे देश में जो भारत बंद का ऐलान किया है जो आज पूरे तौर पर सफल होता नजर आ रहा है इससे लगता है कि आने वाले दिनों में कांग्रेस की पुनः सरकार बन जाएगी अगर यही विरोधी दल इसी तरह से इनका साथ देते रहेंगे अगर ऐसा नहीं हुआ तो फिर लगता है कि केंद्र में भाजपा का ही सरकार बन सकती है।
इस भारत बंद में बिहार में भी खासकर पश्चिम चंपारण जिले में विरोधियों का जो कार्यक्रम तैयार किया गया था इस भारत बंद के सिलसिले में वह लगभग सफलता की ओर अग्रसर है। आज ऐसा देखने को मिला है के पूरे बेतिया शहर में भारत बंद करने वाले सभी राजनीतिक पार्टियों के कार्यकर्ताओं ने जो एकजुटता दिखाई है और पूरे शहर में घूम कर यातायात व्यवस्था रेल व्यवस्था तथा सरकारी कार्यालयों में भी कामों की जो गति होनी चाहिए उस में भारी कमी नजर आई है, निजी संस्थाएं बिल्कुल बंद पाई गई हैं क्योंकि लोगों का कहना है कि इस बंद के दौरान कई प्रकार की अघोषित घटनाएं घट जाती हैं जिसके कारण काफी नुकसान उठाना पड़ता है तथा इसका खामियाजा का भुगतान सरकार नहीं कर पाती है जिसे आम आदमी के अलावा निजी संस्थानों के भी कर्मी अपने आप को इस बंद से बचाए रखना चाहते हैं।
कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने संवाददाता को बताया कि पेट्रोल डीजल रसोई गैस अन्य सामग्रियों के दाम तो बढ़ ही रहे हैं इसके अलावा केंद्र सरकार नहीं है राफेल लड़ाकू विमान के सौदे में जो घपला किया है उस पर भी कांग्रेस पार्टी ने अपने विरोधी दल के नेताओं से मिलकर इनका सहयोग करने की अपील की है ताकि देश को इन घूसखोरों से बचाया जा सके। इस भारत बंद के दौरान पूरे शहर में अफरा-तफरी का माहौल रहा है जो जहां था खासकर प्रतिष्ठान के मालिक निजी दुकानदार निजी संस्थानों के अध्यापक ने भी इस बंद में अपनी सहभागिता दिखाई है।

About IBN NEWS

It's a online news channel.

Check Also

बिहार में अब थाने जाने की जरूरत नहीं, मोबाइल एप से दर्ज कराएं शिकायत; बेहद आसान है प्रक्रिया

  रिपोर्ट अमन सिंह  पटना पटना, राज्य ब्यूरो- Bihar Police News: थाने में जाकर शिकायत …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *