कोरोना से बचाने में मददगार संतुलित आहार

फरीदाबाद:राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय एनएच नं-3 में जूनियर रेडक्रॉस और सैंट जॉन एम्बुलेंस ब्रिगेड ने प्राचार्य रविन्द्र कुमार मनचन्दा की अध्यक्षता में पोषक सप्ताह के अंतर्गत कोरोना काल में संतुलित,पौष्टिक और प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने वाले आहार की आवश्यकता पर ऑनलाइन कार्यक्रम आयोजित किया | जूनियर रेडक्रॉस व ब्रिगेड अधिकारी तथा प्राचार्य रविन्द्र कुमार मनचन्दा ने कहा कि प्रतिरोधक क्षमता के तीन हिस्से होते हैं -त्वचा,श्वसन मार्ग और म्यूकस झिल्ली | ये तीनों हमारे शरीर में किसी भी संक्रमण को रोकने में बहुत ही असरदार होते हैं | यदि कोई वायरस इन तीनों अवरोधकों को तोड़कर शरीर में प्रवेश जाता है,तो फिर अंदर की कोशिकाएं तेजी से सतर्कता बढ़ाती हैं और वायरस से बचाव प्रारंभ कर देती हैं | यदि तब भी काम नहीं चलता है तो फिर एडॉप्टिव इम्यून सिस्टम अपना काम शुरू करता है इसमें कोशिकाएं,प्रोटीन सेल और एंटीबॉडी शामिल सम्मिलित होते हैं | शरीर के अंदर ये रोग प्रतिरोधक क्षमता उभारने में कुछ समय अवश्य लग सकता है, एडॉप्टिव इम्यून सिस्टम कुछ विशेष तरह के विषाणुओं से लड़ सकता है | प्राचार्य रविन्द्र कुमार मनचन्दा ने बताया कि हल्की खांसी,जुखाम,बुखार,सिरदर्द के लक्षण किसी वायरस की वजह से नहीं होते हैं बल्कि ये हमारे शरीर की उस प्रतिरोधक क्षमता का भाग होते हैं जो हमें जन्म से मिलती है इसलिए कहा जाता है कि पोषक आहार में ऐसे तत्व जो शरीर में प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं उनका समावेश करना और भी आवश्यक हो जाता है प्राचार्य रविन्द्र कुमार मनचन्दा,समन्वयक प्राध्यापिका जसनीत कौर तथा पूनम ने बच्चों को कहा कि वे प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने वाले साबुत एवं अंकुरित अनाज और दालें, मौसमी फल व हरी सब्जियां तथा संभव हो सकें तो सूखे मेवे इत्यादि को भोजन में सम्मिलित कर कोरोना से बचाव के लिए अपने इम्यून सिस्टम को सुदृढ़ करे | जिसमें नेहा,निशा, ताबिनदा,हर्षिता ने स्लोगन लिख तथा पोस्टर बना कर पौष्टिक आहार से कोरोना पर वार करके स्वस्थ रहने का संदेश दिया |

फरीदाबाद से बी.आर.मुराद की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

WhatsApp For any query click here