cantor exchange review highlow binary options draw fibonacci retracement flip it to win it fake ios on android software download ig markets app corretora de opções binárias sp 500 sector performance fibo ลาก ยัง ไง volatividade binary research international inc equis para descargar how does fibonacci work trading leverage binary trading wiki 9.30 gmt to est finpari promo codes tradologic brands should i trade binary option bonus no deposit position trader how to survive the next financial crisis etx capital demo free money system sign up when not to trade forex usd jpy otc banc de binary uk binary stock options trading strategies online stock trading company reviews candlestick portugues trik olymp trade 1 menit bdswiss holding plc configurar macd broker for vix75 millionairesociety scam วิธีหาเปอร์เซ็นกําไร gmt 3 time zone engulfing candle strategy enron accounting practices overbought indicators eth all time high média móvel aritmética iq option cuenta real como mexer na iq option what is the apex of a triangle free millionaire blueprint using bollinger bands for binary options iq options download trik profit iq option como utilizar macd cedar finance review is countdown to profits legit economiccalendar padrão de reversão coca cola earnings report 2017 como enviar dinero a una cuenta skrill iq bank how to trade the nfp report baixe aqui iq option can you buy stocks on weekends hitung biner online boleto pago no sabado cai quando keltner channel mt5 indicator wedge down pattern personal trade what time does option market close cryptocurrency rebound define secular trend mta live robot iq option เทมเพลต คือ kucoin exchange reviews cryptonator review definition of market correction impulse system best stock broker for options best mobile brokerage app 60 seconds demo what is a bearish market gmt to indian time converter how to profit in options trading digital call option price how does localbitcoins make money proof of burn rule based trading system lei jun crunchbase olymp trade software for pc iqoption com pt neteller top up anyoptions currency market wikipedia mejores dias para operar en forex neteller review cartao neteller como crear una criptomoneda 2017 tabela de gerenciamento trader wiki forex iq optionen forex trading time in india jeton wallet india binary options trading no deposit bonus how to trade binary options for beginners fechamento da bolsa horario perdagangan opsi range breakout stocks melhor configuração macd ig saturday trading iq option saque conta bancaria what is a triple top cara mengatasi olymp trade tidak bisa dibuka obv trading divergence como depositar na iq option via cartao de credito موقع نسخ الصفقات independent traders market iq option negociar create webmoney account candlestick portugues binary forum ru robot trading autopilot penipuan
Breaking News
Home / HIGHLIGHT / BREAKING: पूर्वांचल मे आतंक मचाये 50 हजार के इनामी डकैत को लगी गोली हुआ गिरफ्तार

BREAKING: पूर्वांचल मे आतंक मचाये 50 हजार के इनामी डकैत को लगी गोली हुआ गिरफ्तार

टीम IBN NEWS

वाराणसी। वाराणसी पुलिस और एसटीऍफ़ की संयुक्त कार्यवाही में कल देर रात जब लोग नर्म बिस्तर में सो रहे थे तभी किसी घटना को अंजाम देने की फिराक में आ रहे कुख्यात 50 हज़ार के इनामिया अपराधी वीरेंदर सिंह को पुलिस ने एक मुठभेड़ में धर दबोचा। इस मुठभेड़ में कुख्यात इनामिया बदमाश के पैर में पुलिस की गोली लगी है और वह ज़ख़्मी है। जिसका इलाज ट्रामा सेंटर में चल रहा है। वाराणसी पुलिस को ये एक बड़ी सफलता हाथ लगी है।

गोरखपुर, बलिया, मऊ और देवरिया जनपद में पुलिस के लिए सरदर्द बने वीरेंदर सिंह का जन्म बलिया जनपद में हुआ था। बलिया जनपद के रसडा थाना क्षेत्र के छिबही ग्राम निवासी वीरेंदर सिंह का गैंग ईंट भट्टो पर डकैती के अपराध में कुख्यात है। इस गैंग का मुख्य सरगना सुखपुरा थाना के केसरुआ गांव का निवासी छोटक उर्फ ठुड़ी है जिसको फरवरी में एक मुठभेड़ के दौरान पकड़ा गया था। छोटक के पकडे जाने के बाद ये गैंग थोडा कमज़ोर पड़ गया था। बलिया और देवरिया के सूत्रों की माने तो छोटक के जेल जाने के बाद से वीरेंदर सिंह ही गैंग को संचालित कर रहा था और छोटक के वापस आने का इंतज़ार कर रहा था।

कैसे अपराध करता था ये गैंग

इस गैंग के दो सदस्यों को गोरखपुर पुलिस ने नवम्बर 2020 में ही गिरफ्तार किया था। उस समय इन सभी का नाम खुद कर सामने आया था कि ये एक गैंग है जो अपना निशाना ईंट भट्टो को बनाता है। अपने शिकार की तलाश में ये गैंग के सदस्य पहले ईंट भट्टो की रेकी करते है। वह कितने मजदूर काम करते है। कितना कैश मिल सकता है। सुरक्षा के क्या हाल है उस ईंट भट्टो के, सभी कुछ ये गैंग लगभग 8 से 10 दिन जानकारी इकठ्ठा करता है फिर उसके बाद घटना को अंजाम देर रात को देता है।

रात के अंधेरे मे गिरोह देता था घटनाओं को अंजाम

घटना के दौरान ईंट भट्टो के मजदूरों को बंधक बनाकर ये गैंग आराम से रात के अँधेरे में डकैती डालता है। सभी को बंधक बनने के दरमियान तलाश कर कर के एक एक मोबाइल ये अपने कब्ज़े में लेता है। ये सिर्फ इस लिए किया जाता है कि घटना की सुचना किसी को भी सुबह होने के पहले न मिल सके। तब तक ये गैंग घटना को अंजाम देकर आराम से फरार हो जाता है।

भट्ठा मजदूरो के लिए काल बन घूमता था आरोपी

देवरिया जनपद, गोरखपुर जनपद और मऊ तथा बलिया जनपद में इस गैंग का आतंक ईंट भट्टो पर है। इस गैंग की दहशत इतनी है कि इसके निशाने पर कौन सा ईंट भट्टा कब आ जाये किसी को विश्वास नही होता है। इस गैंग के अपराधिक इतिहास को पुलिस वैसे तो इकठ्ठा कर रही है मगर सूत्रों की माने तो कई मामले पुलिस में दर्ज ही नही हुवे है। शायद उसका कारण ये रहा होगा कि इस गैंग के द्वारा जो लूटपाट होती है वह अन्य प्रदेशो से आये प्रवासी मजदूरों के साथ होती है और साथ ही लोक लज्जा भंग जैसी घटनाओं को भी गैंग अंजाम दे देता है।

कब आया ये गैंग पुलिस की नज़र

वैसे तो इस गैंग की कार्यशैली काफी समय से पुलिस के लिए सरदर्द बनी हुई थी। इनका सबसे सॉफ्ट टारगेट मुख्य बस्ती से इतना दूर होता है कि उस इलाके में अक्सर पुलिस गश्त भी नही होती है। मगर बीते नवंबर 2020 में गोरखपुर के गगहा थाना के सकरी ईंट-भट्ठे पर डकैती के प्रकरण में इस गैंग का नाम सामने आया था। एक दुर्दांत तरीके से ईंट भट्टे पर ये डकैती हुई थी। जिसमे बाद में पुलिस ने दो अभियुक्तों को गिरफ्तार कर इस गैंग के सक्रियता का खुलासा किया था।

क्या हुई थी गोरखपुर में घटना

गोरखपुर के गगहा इलाके के एक गांव में स्थित ईंट-भट्ठे पर हथियारों से लैस करीब दर्जन भर डकैतों ने मजदूरों को एक झोपड़ी में बंधक बनाकर उनके साथ लूट की घटना को अंजाम दिया था। इस दरमियान पीडितो का आरोप था कि डकैतों के द्वारा 14 व 17 साल की दो नाबालिग किशोरियों के साथ दुष्कर्म भी किया है। इसके अलावा इन डकैतों ने महिलाओं और अन्य किशोरियों से भी अश्लील हरकत की थी।

हत्या व रेप के अनगिनत वारदातों को दिया है अंजाम

आरोप था कि दुष्कर्म के बाद डकैत, 76,300 रुपये, नौ मोबाइल फोन व गहने लूटकर फरार हो गए। पुलिस ने भट्ठा मालिक की तहरीर पर घर में घुसकर डकैती, दुष्कर्म, छेड़खानी और पॉक्सो एक्ट की धारा में केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी थी। इस दरमियान घटना के पंजीकृत होने वाले दिन ही देर रात पुलिस ने दोनों किशोरियों की मेडिकल रिपोर्ट के हवाले से दुष्कर्म के आरोप को गलत ठहरा दिया।

झारखंड की युवतियों को बनाया था निशाना पुलिस थी परेशान हाल

पुलिस का कहना था कि किशोरियों के मेडिकल रिपोर्ट में दुष्कर्म की पुष्टि नही हुई है, जबकि पीड़ित किशोरियों का बयान था कि दो डकैतों ने उन दोनों से साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया था। मगर पुलिस अपने इस बयान को मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर कहती रही कि किशोरियों से दुष्कर्म नही हुआ है। पीड़ित सभी मजदूर झारखण्ड के रहने वाले थे और गरीब तबके के थे। डरे सहमे मजदूरों के दिलो दिमाग में इस घटना की दहशत बन गई थी। सूत्रों की माने तो इस घटना के बाद कई मजदूर परिवार ईंट भट्टे से काम छोड़ कर चला गया था। ईंट भट्टे के मालिक ने बहादुरी का परिचय देते हुवे सामने से आकर मुकदमा दर्ज करवाया था।

मजदूरो को बंधक बना दे दिया वारदात को अंजाम

इस घटना के कारित होने ने बाद हुई सुबह में ही घटना की जानकारी हो सकी थी जब ईंट भट्टा मालिक भट्टे पर आया था। डकैती के दरमियान एक एक मोबाइल तलाश कर बदमाश लेकर भागे थे। तत्कालीन गोरखपुर के एसपी दक्षिणी विपुल कुमार श्रीवास्तव ने उस समय हमारे प्रतिनिधि से बात करते हुवे कहा था कि “बदमाशों ने मजदूरों को बंधक बनाकर वारदात को अंजाम दिया है। तहरीर में किशोरियों से दुष्कर्म और छेड़खानी का आरोप है। बदमाश रुपये, मोबाइल फोन और गहने लूटकर फरार हो गए। पुलिस तहरीर के आधार पर केस दर्ज कर मामले की जांच कर रही है। जल्द ही घटना का पर्दाफाश कर लिया जाएगा।“

देवरिया और बलिया में भी किया था ऐसी ही घटना

पुलिस अभी गोरखपुर जनपद के गगहा में हुई घटना को घुमंतू अपराधियों के गैंग से जोड़ कर देख ही रही थी कि उसी वर्ष उसी माह में देवरिया और बलिया जनपद में भी ईंट भट्टो पर डकैती की ऐसी ही घटना सामने आई थी। इसके बाद गोरखपुर पुलिस और एसटीऍफ़ ने नवम्बर 2020 में ही दो बदमाशो को गिरफ्तार किया था। गगहा और झंगहा निवासी दोनों बदमाश पशु तस्करी का काम करते थे और आपस में रिश्तेदार भी थे। उनके पकडे जाने के बाद मामले का खुलासा हुआ था और वही से छोटक और वीरेंदर का नाम सामने आया था। ये कार्यवाही बलिया, गोरखपुर व देवरिया पुलिस की संयुक्त रूप से कार्यवाही थी जिसमे बलिया के विशुनदेव सहित छह आरोपितों की गिरफ्तार किया था। यहाँ से छोटक का नाम प्रकाश में आया था।

इसके बाद फरवरी 2021 में छोटक एक पुलिस मुठभेड़ में आरोपी को चंवरिया बुजुर्ग गांव के पास पकड़ा जाता है और उसके द्वारा अपने गैंग के दो अन्य सदस्यों का खुलासा क्रमशः छिबही, रसड़ा निवासी वीरेंदर सिंह और खड़हाताड निवासी टेंगर के रूप में किया था।

वीरेंदर पर गोरखपुर पुलिस ने घोषित किया 50 हज़ार का इनाम

इस गैंग को पूरी तरीके से नेस्तनाबूत करने के लिए पुलिस ने भी कमर कस लिया था। पुलिस ने गैंग के एक और सक्रिय सदस्य वीरेंदर सिंह पर 50 हज़ार का इनाम घोषित कर दिया था। मगर शातिर वीरेंदर पुलिस की आँखों में धुल झोक कर फरार था। आखिर वीरेंदर को वाराणसी पुलिस ने धर ही दबोचा।

About IBN NEWS

It's a online news channel.

Check Also

रोज़ा इफ़्तार में अल्लाह से पूरी दुनिया को कोरोना महामारी से महफूज़ रखने की दुआ भी मांगी

गोरखपुर, उत्तर प्रदेश इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सेराज अहमद कुरैशी के बड़े साहबजादे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *