कोविड-19 की रोकथाम हेतु शिविर कार्यालय पर आयोजित समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी जे.बी.सिंह ने सभी नोडल अधिकारियों को दिये दिशा निर्देश

इटावा जिला इटावा में कोविड-19 की रोकथाम हेतु शिविर कार्यालय पर आयोजित समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी जे.बी.सिंह ने सभी नोडल अधिकारियों को निर्देश दिये कि कोरोना की चैन तोड़ने के लिए प्रतिदिन ज्यादा से ज्यादा टेस्ट किये जायें और संक्रमित व्यक्तियों को एल-1अस्पताल में भर्ती कराया जाये,संक्रमित व्यक्ति के सम्पर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को चिन्हित कर कोराना टेस्ट किया जाये।
बैठक में बताया गया कि जनपद में एल 1 श्रेणी का हास्पीटल नारायण इण्टर कालेज है, जिसकी क्षमता 100 बैड है, जिसमें अभी कुल 15 संक्रमित मरीजों का उपचार किया जा रहा है।इसी प्रकार एल 2 श्रेणी का हास्पीटल एम.सी. एच.विंग महिला चिकित्सालय है,जिसकी क्षमता 100 बैड है, जिसमें अभी कुल 06 संक्रमित मरीजों तथा एल 3 श्रेणी का हास्पीटल उत्तर प्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय सैफई है जिसकी क्षमता 200 बैड है, जिसमें अभी कुल 39 संक्रमित मरीजों का उपचार किया जा रहा है।
शासन की मंशा के अनुसार जनपद में अनलाकडाउन-3 का पालन कराया जा रहा हेै। जनपद में कोरोना पाजिटिव क्षेत्र को हाट स्पाट/कन्टेनमेन्ट जोन बनाया गया है।नगरीय क्षेत्र में प्रत्येक वार्ड में सैम्पलिंग टीम लगाकर डोर-टू-डोर स्वास्थ्य परीक्षण कराया जा रहा है,इसके साथ नगरीय,ग्रामीण क्षेत्रों साफ सफाई सेनेटराइजेशन का कार्य चल रहा है।
जनपद इटावा में कोरोना वायरस की जांच हेतु अब तक कुल 37701 कोरोना टेस्ट किये गये जिसमें 35738 निगेटिव आये हेै 453 का परिणाम आना अभी शेष है, 1510 पाजिटिव पाये गये , 1079 मरीज ठीक हुए 33 की मृत्यु हो चुकी है 398 मरीज भर्ती है इनका इलाज चल रहा है।जनपद में नगरीय/ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड-19 एवं संचारी रोग पर प्रभावी नियंत्रण हेतु डोर-टू-डोर सर्विलांस टीमों की उपलब्धता 584 है एवं टीमों के द्वारा किये गये कार्यों की समीक्षा की जा रही है।
समीक्षा के दौरान अवगत कराया गया कि जनपद में कोरोना सैम्पलिग हेतु 12 टीमें गठित हैं इन टीमों द्वारा आज 1581 लोगों का कोरोना टेस्ट किया गया जिसमें 651 आर.टी.पी.सी. आर 866 एन्टीजन टेस्ट एवं 64 टु-नाट मशीन से टेस्ट किये गये।
उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि होम आइसेालेशन होने वाले व्यक्ति के घर में अलग कमरा एवं दो शौचालय हो होमआइसोलेट व्यक्ति की देखरेख करने वाले व्यक्ति का मोबाइल नम्बर अवश्य लिया जाये और प्रतिदिन कोरोना मरीज के पल्स आक्सीमीटर रीडिंग वाट्सऐप के माध्यम से प्राप्त करने के साथ मरीज के मोबाइल में आरोग्य सेतु एप डाउनलोड कराया जाये।
मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि कोविड अस्पतालों के परिसर कमरे,शौचालय आदि में विशेष सफाई व्यवस्था सुनिश्चित की जाये और समय समय पर सेनेटाइज भी कराया जाये।बिजली,पेयजल की व्यवस्था सुदृढ़ रखी जाये मरीजों को गुणात्मक नाश्ता व पौष्टिक आहार समय पर दिया जाये। पीपीकिट,मास्क चादरे,सेनेटाइज आदि की पर्याप्त उपलब्धता बनाये रखें।
उन्होने यह भी निर्देश दिये कि कि बरसात के मौसम में होने वाले संचारी रोगों के प्रति गभ्भीर रहें। गत वर्ष जिन ब्लाकों के गांवों में संचारी रोगों का अधिक प्रभाव रहा है वहां कैम्प आयोजित कर ग्रामीणों का परीक्षण कराया जाये। संचारी रोगों की दवाओं का वितरण कराने के साथ जल भराव वाले स्थानों पर कीट नाशक दवााओं का छिड़काव कराया जाये।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी राजा गणपति आर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. एन.एस.तोमर मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. एस.एस. भदौरिया उप मुख्य चिकित्साधिकारी डा.श्रीनिवास यादव,डा.वीरेन्द्र सिंह डी.पी.एम. सन्दीप कुमार,डा. सुशील सहित अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

अंकुर त्रिपाठी IBN NEWS जिला संवाददाता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp For any query click here