Breaking News

अवध विश्वविद्यालय के पूर्व वी.सी.भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप में लिप्त

संवाददाता – मुदस्सिर हुसैन IBN NEWS

अयोध्या – डॉ०राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रोफेसर मनोज दीक्षित के विरुद्ध भ्रष्टाचार और अंधेर गर्दी के गंभीर आरोप लगाए गए हैं।राजभवन के सूत्रों से पता चला है कि प्रोफेसर दीक्षित ने विश्वविद्यालय में अपने कार्यकाल के दौरान भ्रष्टाचार अंधेरगर्दी की सारी सीमाएं लांघ चुके थे, राजभवन के सूत्रों से खबर मिली है कि वर्तमान कुलपति प्रोफेसर शिवशंकर सिंह ने कार्यभार संभालने के पश्चात राजभवन को अवगत कराया है कि 30 करोड़ के टेंडर में मात्र दो करोड़ रूपया खर्च दिखाया गया है

और 28 करोड़ का वारा न्यारा पूर्व कुलपति और उनके चहेतों के द्वारा किया गया है राजभवन के सूत्रों से अभी खबर चली है कि अवध विश्वविद्यालय में प्रोफेसर मनोज दीक्षित जी ने अपने कार्यकाल के दौरान लगभग 300 से अधिक नियुक्तियां भी फर्जी तरीके से कर डाली है यही नहीं आगे भी पता चला है कि दीक्षित ने अपने कुलपति कार्यकाल के दौरान विश्वविद्यालय की करोड़ों रुपयों की एफडी तोड़ डाले और सारा पैसा हजम कर डाले हैं।मामला प्रकाश में आते ही राजभवन सतर्क हो गया है और विश्वविद्यालय के अधिकारियों तथा विश्वविद्यालय परिसर में सनसनी फैल गई है विगत 3 दिनों से राजभवन में इस गंभीर भ्रष्टाचार को लेकर के मंथन जारी है।माननीय राज्यपाल महोदय श्रीमती आनंदीबेन पटेल के अपर मुख्य सचिव श्री गुप्ता जी ने भ्रष्टाचार औरअंधेरगर्दी को काफी गंभीरता से लिया है और अवध विश्वविद्यालय के कुलपति अधिकारी तथा कुलसचिव को पिछले 3 दिनों में 2 बार तलब करके स्पष्टीकरण देने के लिए सख्त आदेश दिए हैं।

राजभवन के सूत्रों से भी पता चला है कि अधिकारियों के राजभवन में पहुंचते ही हाथ पांव फूल गए हैं और प्रोफेसर मनोज दीक्षित जी के कार्यकाल के दौरान आसीन रहे विभिन्न पदों पर महत्वपूर्णअधिकारियों के चेहरे उतर गए थे और उनके मुंह तक सूख गए थे अबआने वाले दिनों में पता चलेगा कि किसने कितने करोड़ रुपया खाये हैं और किन किन के विरुद्ध f.i.r. की
कार्यवाही की जाएगी।मामला बड़ा ही दिलचस्प है इसमें कई महत्वपूर्ण अधिकारियों की गर्दन फंस गई है।अभी तक जो खबर है यही तक है विश्वविद्यालय का खजाना खाली है गौरतलब बात यह है कि विगत 3 वर्षों से परीक्षा कार्यकाल के दौरान विश्वविद्यालय से संबद्ध विभिन्न महाविद्यालयों में परीक्षा ड्यूटी कर चुके शिक्षकों और कर्मचारियों का भी पिछले 3 वर्षों का मानदेय आज तक विश्वविद्यालय प्रशासन नहीं दे पाया है जिसको लेकर शिक्षकों और कर्मचारियों में भारी आक्रोश व्याप्त है।

About IBN NEWS

It's a online news web channel running as IBN24X7NEWS.

Check Also

महिला मोर्चा ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का फूका पुतला भाजपा ने मौन व्रत रखकर किया विरोध प्रदर्शन

अनूपपुर – भारतीय जनता पार्टी की नेत्री इमरती देवी के खिलाफ प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री …

राष्ट्रीय स्तर के कवि सत्येन्द्र मंडेला मंगलवार शाम लाइव कविता पाठ कर फैलाएंगे कोरोना के प्रति जागृति

  भीलवाड़ा : नवरात्रि में भीलवाड़ा जिले के कवि व कविता प्रेमी फेसबुक पेज द्वारा …

कोरोना गाइडलाइन को लेकर बालाजी मंदिर में रामायण पाठ हो रहा

  बीगोद : कस्बे में नृसिंह द्वारा बालाजी मंदिर हर वर्ष की तरह इस वर्ष …

चंदौली : शासनादेश के तहत बालिका सुरक्षा को लेकर की गई बैठक

  नारी को अपनी सुरक्षा और अधिकार के प्रति जागरूक कर रहा “मिशन शक्ति अभियान” …

चंदौली : सपाइयों ने जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन

चंदौली जिले में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं के द्वारा जिला मुख्यालय जिलाधिकारी कार्यालय …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp For any query click here