Breaking News
Home / हरियाणा / फरीदाबाद / जमीन खरीदने वालों को प्लॉट पर कब्जा दिया,पर कोई कागजात नहीं दिया

जमीन खरीदने वालों को प्लॉट पर कब्जा दिया,पर कोई कागजात नहीं दिया

 

रिपोर्ट  मुराद बलबार IBN NEWS फरीदाबाद, हरियाणा

फरीदाबाद:कई दिनों से दिल्ली के प्रह्लादपुर गांव से सटे खोरी गांव कुछ ज्यादा ही सुर्खियों में है | क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने यहां सरकारी जमीन पर बसी अवैध कालोनी को तोड़ने के आदेश दिए हैं | लेकिन यहां प्रॉपर्टा डीलरों की मौज रही है | आरोप ये लगाए जा रहे हैं कि डीलरों ने लोगों को सस्ती जमीन दिलाने का झांसा देकर अपना पल्ला झाड़ लिया है |

 

और इस काम में नगर निगम के अधिकारी व पुलिस ने डीलरों का साथ दिया | यही कारण है कि ये कालोनी प्रह्लादपुर दिल्ली तक विकसित हो चुकी | यहां जमीन खरीदने वालों को सिर्फ प्लॉट का कब्जा मिलता है,बाकि और कोई कागजात नहीं होते | अभी भी यहां बेचने के लिए प्लॉट उपलब्ध हैं | सर्वे में खाली प्लॉट दिखे हैं |

खोरी गांव को सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर अवैध कब्जे हटाए जाएंगे

यहां बड़ी संख्या में धार्मिक स्थल बने हुए हैं | दो कंपनियां और पांच स्कूल चल रहे हैं | इनको भी विभिन्न विभागों के अधिकारियों ने ही अनुमति दी है | ऐसे में अधिकारियों की भूमिका से इनकार नहीं किया जा सकता है | हैरानी की बात तो यह है कि यहां अलग-अलग काम के लिए ठेका लिया जाता है,जो पैसे लेकर लोगों के काम कराते हैं |

अहम बात यह है कि कुछ माफिया बिजली सप्लाई की एवज में प्रति यूनिट बिल तक वसूल रहे हैं | कुछ घरों में एकमुश्त मंथली तय है ऐसा हजारों घरों के साथ हो रहा है | इतना ही नहीं पेयजल सप्लाई के नाम पर भी माफिया मोटा पैसा कमा रहे हैं | दो से ढाई हजार रूपय प्रति टैंकर यहां पानी सप्लाई किया जाता है | यहां करीब 35 एकड़ से अधिक कालोनी विकसित हो चुकी है और 50 हजार परिवार बन गए हैं |

➡️45 साल से बसी हुई है कालोनी

यहां पर करीब 45 साल पहले फरीदाबाद के अनगंपुर और लकड़पुर गांव के लोगों के क्रशर जोर बने हुए थे,जहां पलवल के गांवों के लोगों मजदूरी करते थे और जो बाद में यहीं बस गए | यहां बनी झील को खोली कहा जाता था और जो बाद में खोरी के नाम से प्रसिद्ध हुई | यहां असल में 500-600 वोटर हैं,लेकिन अब यहां बड़ी तादाद में लोग रह रहे हैं | दिल्ली प्रह्लादपुर से आगे लालाकुंआ तक खोरी सटी है | इन दोनों गांवों के लोग बताते हैं कि यहां करीब 25-30 साल पहले माफिया ने कालोनी काटनी शुरू की थी | धीरे-धीरे करीब 35 एकड़ जमीन पर अवैध कब्जा कर कालोनी विकसित हो चुकी | लोगों ने शुरू में 50 वर्गगज जमीन को 20 हजार रुपये तक बेचा और फिर एक हजार रुपये वर्गगज के हिसाब से जमीन बेची | इसके बाद पांच हजार रुपये तक जमीन बेची गई | खासतौर पर खास वर्ग के लोगों की संख्या यहां काफी है | काफी संख्या में बांग्लादेश के लोग भी बसे हुए हैं |

➡️स्थानीय लोगों के राशन कार्ड भी बने हुए हैं

▪️स्थानीय निवासी रविंद्र,धर्मवीर,जितेंद्र व शिव कुमार ने बताया कि माफिया ने यहां कालोनियां बसाकर उनके सभी जरूरी कार्यों का ठेका ले रखा है | छुटभैया नेता वहां अपनी चौधराहट दिखाकर राशन कार्ड से लेकर अन्य सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज के नाम पर लाखों रुपए कमा रहे हैं | पानी सप्लाई के नाम महीने में मोटी वसूली होती है | बिजली कनेक्शन देने से लेकर बिल के नाम पर लाखों रूपय की उगाही होती है |

About IBN NEWS

It's a online news channel.

Check Also

एसडीएम ने किया निर्माणाधीन उपमंडल स्तरीय लघु सचिवालय का निरीक्षण

  रिपोर्ट  मुराद बलबार IBN NEWS फरीदाबाद, हरियाणा फरीदाबाद:एसडीएम अपराजिता ने आज वीरवार को एसडीओ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *