Breaking News
Home / मध्य प्रदेश / इंदौर / इंदौर-कलेक्टर के आदेश की उड़ा दीं धज्जियां, बंद का दिया था आदेश, खोली मंडी

इंदौर-कलेक्टर के आदेश की उड़ा दीं धज्जियां, बंद का दिया था आदेश, खोली मंडी

रिपोर्ट कंवलजीत सिंह सैनी IBN NEWS इंदौर

इंदौर। कोरोना महामारी को देखते हुए कलेक्टर ने चोइथराम सब्जी मंडी को चार दिन बंद करने के आदेश दिए थे, लेकिन मंडी प्रशासन ने उसकी धज्जियां उड़ा दीं। आज सब्जी मंडी चालू रही और सुबह तक पूरे शबाब पर थी। यहां भारी भीड़ उमड़ी, जिसने कोरोना गाइड लाइन का उल्लंघन किया। रातभर जमकर खरीद-फरोख्त हुई।

तेजी से बढ़ते हुए कोरोना पॉजिटिव के आंकड़ों को देखते हुए सरकारी महकमा तो ठीक जनप्रतिनिधियों की भी चिंता बढ़ गई थी। इसके चलते आपदा प्रबंधन की बैठक में कड़े फैसले लिए गए। तय किया गया कि चोइथराम व निरंजनपुर की फल, आलू-प्याज और सब्जी मंडी को १५ जुलाई से चार दिन के लिए बंद किया जाए। उसके बाद कलेक्टर मनीष सिंह ने आदेश जारी कर सख्ती से उसे लागू करने के सभी संबंधित अफसरंों को निर्देश दिए, लेकिन मंडी प्रशासन ने उनके आदेश की धज्जियां उड़ा दीं। आज सुबह ८ बजे तक चोइथराम सब्जी मंडी संचालित हुई।

गौरतलब है कि रात ९ बजे से मंडी में माल आना शुरू हो गया था। दो घंटे तक ये सिलसिला चलता रहा। आसपास के किसानों को जानकारी लग गई थी कि मंडी में माल आने दिया जा रहा है तो वे भी गाडिय़ां लेकर पहुंच गए। रात १०.४५ बजे अचानक मंडी में बैरिकेड्स लगाकर गाडिय़ों को रोकना शुरू कर दिया। गार्ड का कहना था कि मंडी सचिव मानसिंह मुनिया के निर्देश हैं।

कुछ देर में किसानों ने बवाल शुरू कर दिया कि जब दूसरों की गाड़ी अंदर आने दी, तब उन्हें क्यों नहीं रोका गया? इस बीच कुछ बड़े व्यापारियों ने मंडी के अधिकारियों को फोन लगाया। उसके बाद गेट खुल गए। अर्थ साफ था कि सांठगांठ हो गई। रातभर सब्जी, मंडी में आती रही और खरीद-बेच चलती रही। ये सिलसिला सुबह ९ बजे तक जारी रहा। बकायदा भारी भीड़ जमा हुई। ना सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया और कई लोगों ने मास्क भी नहीं लगाए थे।
कौन है दोषी

कलेक्टर मनीष सिंह ने आपदा प्रबंधन की बैठक के बाद १३ जुलाई को ही आदेश जारी कर दिए थे। साथ में सभी विभागों के प्रमुखों को सख्ती करने के निर्देश थे। मंडी कर्ताधर्ताओं की जवाबदारी बनती थी कि १४ जुलाई को संचालित हुई मंडी में किसानों को जानकारी देने के लिए डोंडी पिटाई जाए।

इसके अलावा जब मालूम था कि १५ जुलाई रात १२ बजे से लग जाती है तो मंडी में रात १०.४५ बजे तक सब्जी की गाडिय़ों को प्रवेश क्यों दिया गया? कलेक्टर के आदेश को हवा में लेते हुए किसानों व व्यापारियों को जानकारी देना उचित नहीं समझा और गाडिय़ों को प्रवेश करने दिया, जो बाद में विवाद की जड़ बन गई। इस संबंध में मंडी सचिव मानसिंह मुनिया से संपर्क किया गया, लेकिन फोन नहीं उठाया।

ऐसे तो खुल जाएगा शहर

जैसे मंडी में कलेक्टर के आदेश का पालन नहीं किया गया, ऐसे तो अराजकता की स्थिति बन जाएगी। धीरे-धीरे सभी विभाग पालन करना बंद कर देंगे तो प्रशासनिक तंत्र फेल होना शुरू हो जाएगा। इस घटना के दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाना चाहिए ताकि वह सबक के रूप में देखा जाए।

About IBN NEWS

It's a online news web channel running as IBN24X7NEWS.

Check Also

मध्यप्रदेश: कोरोना ने छीन ली पत्रकारों की जिंदगी…

मध्यप्रदेश पत्रकार संघ की माँग,पत्रकारों को कोरोना योद्धा की संज्ञा देकर पत्रकार की मृत्यु पर …

एक्सक्लूसिव : शराब माफिया मनजीत उर्फ रिंकू भाटिया फरार

शराब माफिया मनजीत उर्फ रिंकू भाटिया फरार कई धाराओं के अंतर्गत मामला दर्ज शराब तस्करी …

इंदौर: रूपए दोगुना करने का झांसा देकर ठगी करने वाला तांत्रिक, पुलिस थाना किशनगंज की गिरफ्त में

ब्रेकिंग न्यूज • रूपए दोगुना करने का झांसा देकर ठगी करने वाला तांत्रिक, पुलिस थाना …

शिवपुरी: लोक निर्माण राज्यमंत्री सुरेश धाकड़ ने किया पौधारोपण

शिवपुरी। निजी फलोद्यान योजना के तहत हितग्राहियों का चयन कर उन्हें पौधे दिए जा रहे हैं। …

शिवपुरी पुलिस द्वारा अवैध शराब के अपराध में फरार स्थाई वारण्टी को दबोचा

पुलिस अधीक्षक शिवपुरी श्री राजेश सिंह चंदेल के निर्देशन एवं अति. पुलिस अधीक्षक शिवपुरी श्री …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp For any query click here