Breaking News
Home / Highlight's / आईए जानते हैं उत्तर प्रदेश के जिला् कुशीनगर का इतिहास

आईए जानते हैं उत्तर प्रदेश के जिला् कुशीनगर का इतिहास

 

कुशीनगर उत्तर प्रदेश के गोरखपुर मंडल के अंतर्गत एक जनपद है। यह क्षेत्र पहले कुशीनारा के नाम से जाना जाता था जहां बुद्ध का महापरिनिर्वाण हुआ था। कुशीनगर जिले का प्रशासनिक प्रभाग पडरौना में है। क्षेत्रफल 2,873.5 कि॰मी2 (1,109.5 वर्ग मील) है तो जनसंख्या 3,560,830 (2011)। साक्षरता दर 67.66 percent और लिंगानुपात 955 है। यह एक लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र है तो सात विधानसभा क्षेत्र— फाजिलनगर, खड्डा, रामकोला, हाटा, कसया, पडरौना, तमकुही राज हैं। जिले में 6 तहसीलें हैं – पडरौना, कुशीनगर, हाटा, तमकुहीराज , खड्डा, कप्तानगंज और 14 विकासखण्ड (block) हैं – पडरौना, बिशुनपुरा, कुशीनगर, हाटा, मोतीचक, सेवरही, नेबुआ नौरंगिया, खड्डा, दुदही, फाजिल नगर, सुकरौली, कप्तानगंज, रामकोला और तमकुहीराज। जिले में ग्रामों की संख्या 1446 हैं।

धार्मिक व ऐतिहासिक परिचय
हिमालय की तराई वाले क्षेत्र में स्थित कुशीनगर का इतिहास अत्यंत ही प्राचीन व गौरवशाली है। वर्ष 1876 ई0 में अंग्रेज पुरातत्वविद ए कनिंघम ने आज के कुशीनगर की खोज की थी। खुदाई में छठी शताब्दी की बनी महात्मा बुद्ध की लेटी प्रतिमा मिली थी इसके अलावा रामाभार स्तूप और और माथाकुंवर मंदिर भी खोजे गए थे। वाल्मीकि रामायण के मुताबिक यह स्थान त्रेता युग में भी आबाद था और यहां मर्यादा पुरुषोत्तम राम के पुत्र कुश की राजधानी थी जिसके चलते इसे कुशावती के नाम से जाना गया। पालि साहित्य के ग्रंथ त्रिपिटक के मुताबिक बौद्ध काल में यह स्थान षोड्श महाजनपदों में से एक था और मल्ल राजाओं की यह राजधानी।

तब इसे कुशीनगर के नाम से जाना जाता था। पांचवी शताब्दी के अंत तक या छठी शताब्दी की शुरूआत में यहां महात्मा बुद्ध का आगमन हुआ था। कुशीनगर में ही उन्होंने अपना अंतिम उपदेश देने के बाद महापरिनिर्माण को प्राप्त किया था।

कुशीनगर से 16 किलोमीटर पूरब में मल्लों का एक और गणराज्य पावा था। यहाँ बौद्ध धर्म के समानांतर ही जैन धर्म का प्रभाव था। माना जाता है कि जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर महावीर जैन (जो बुद्ध के समकालीन थे) ने पावानगर (वर्तमान में फाजिलनगर) में ही परिनिर्वाण प्राप्त किया था। इन दो धर्मों के अलावा प्राचीन काल से ही यह स्थल हिंदू धर्मावलंम्बियों के लिए भी काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। गुप्तकाल के तमाम अवशेष आज भी जिले में बिखरे पड़े हैं इनमें तकरीबन डेढ़ दर्जन प्राचीन टीले हैं जिसे पुरातात्विक महत्व का मानते हुए पुरातत्व विभाग ने संरक्षित घोषित कर रखा है।

उत्तर भारत का इकलौता सूर्य मंदिर भी इसी जिले के तुर्कपट्टी में स्थित है। सूर्य की पहले से बनी प्रतिमा यहां खुदाई के दौरान ही मिली थी जो गुप्तकालीन मानी जाती है। इसके अलावा भी जनपद के विभिन्न हिस्सों में अक्सर ही जमीन के नीचे से पुरातन निर्माण व अन्य अवशेष मिलते ही रहते हैं। कुशीनगर जनपद का जिला मुख्यालय पडरौना है जिसके नामकरण के संबंध में हिंदू मत के मुताबिक यह कहा जाता है कि अयोध्या के राजा राम विवाह के उपरांत पत्नी सीता व अन्य सगे-संबंधियों के साथ इसी रास्ते जनकपुर से अयोध्या लौटे थे।

उनके पैरों से रमित धरती पहले पदरामा और बाद में पडरौना के नाम से जानी गई। जनकपुर से अयोध्या लौटने के लिए राम और उनके साथियों ने पडरौना से 10 किलोमीटर पूरब से होकर बह रही बांसी नदी को पार किया था। आज भी बांसी नदी के इस स्थान को रामघाट के नाम से जाना जाता है। हर साल यहां भव्य मेला लगता है जहाँ उत्तर प्रदेश और बिहार के लाखों श्रद्धालु आते हैं। बांसी नदी के इस घाट को स्थानीय लोग इतना महत्व देते हैं कि सौ काशी न एक बांसी की कहावत ही बन गई है। मुगल काल में भी यह जनपद अपनी खास पहचान रखता था।

प्रमुख पर्यटन एवं ऐतिहासिक स्थल
कुशीनगर का परिनिर्वाण मंदिर
कुशीनगर में मुख्य रूप से महापरिनिर्वाण मंदिर, रामाभार स्तूप तथा माथाकुँवर मंदिर है। इसके अलावा जिले में मुख्य रूप से कुछ सांस्कृतिक तथा धार्मिक स्थान हैं। इस जिला में हिंदू धर्म के अतिरिक्त मुस्लिम समुदाय के लोग भी भारी संख्या में निवास करते हैं

इस जिला में लगभग 30 बड़ी ज़मा मस्जिद के साथ बहुत सारी छोटी-बड़ी मस्जिद भी हैं। कुशीनगर के धरती को सूफी संतों की नगरी भी कहा जाता है। यहां इस्लाम धर्म के बहुत सारे औलिया ए कराम सूफियों के मजार वह दरगाह पाए जाते हैं। जिनमें ग्राम शाहपुर के बुढन शाह बाबा का दरग़ाह। पडरौना के समीप मलंग शाह बाबा का दरग़ाह। व पडरौना के गुमती शाह बाबा का दरग़ाह। रमज़ान शाह बाबा का दरग़ाह प्रमुख हैं। यहां शाहपुर के बुढन शाह बाबा के उर्स के मौके पर एक महीने के लिए बहुत बड़े मेले का आयोजन होता है। जहां दूर दूर से लोग आते हैं।

जिला कुशीनगर आस्था के केंद्र के साथ साथ पर्यटन स्थल भी है। कुशीनगर के पनियहवा गंडक नदी पर बना पुल देखने में काफी रोचक लगता है।। पडरौना में बना बहुत पुराना राज़ दरबार भी पर्यटकों का दिल लुभाता है। कुशीनगर का सबसे बड़ा गांव जंगल खिरकिया में भब्य मंदिर है जहां श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है। ग्राम जंगल अमवा के समीप मुसहर टोली में। बना पंचवटी पार्क भी देखने योग्य हैं।

इस जिला में शिक्षा का स्तर काफी तेजी से बढ़ रहा है। बहुत सारे कालेज व शैक्षिक संस्थान हैं। जिनमें बुद्धा डिग्री कॉलेज। उदित नारायण कालेज। किसान इंटर कॉलेज प्रमुख हैं।।।।।।इस जिला में कठकुईयां मील रामकोला मील पडरौना मील। खड्डा मील समेत कई बड़े चिनी मील फैक्ट्री मौजूद हैं। इस जिला में पडरौना। रामकोला।कठकुईयां। खड्डा।दूदही। तमकुही रोड़। पनियहवा समेत कई छोटे बड़े रेलवे स्टेशन हैं। कुशीनगर जिला का मुख्यालय रविन्द्र नगर धूस है। वर्तमान में कुशीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट का काम प्रगति पर है

 

रिपोर्टर एसानुल हक कुशीनगर IBN NEWS

About IBN NEWS

It's a online news web channel running as IBN24X7NEWS.

Check Also

बहराइच: अवैध कट्टा व कारतूस के साथ एक नफर अभियुक्त गिरफ्तार

  दिनांक- 02.08.2020 मु0अ0सं0- 193/2020 धारा 3/25 आयुद्ध अधिनियम थाना – रामगाँव । विवरण:- पुलिस …

पांच अगस्त तक अरबपति हो जाएंगे रामलला, रोज बढ़ते जा रहे दानदाता, अभी तक सर्वाधिक जमा हुए दो करोड़

https://youtu.be/rXNjdJHpzo0 अभी तक सर्वाधिक जमा हुए दो करोड़ ट्रस्ट कार्यालय में कैश जमा हो रहा …

थाना नवाबगंज के 6 पुलिस कर्मियों का आया करोना रिपोर्ट पॉजीटिव

https://youtu.be/rXNjdJHpzo0 स्पेशल रिपोर्ट IBN NEWS अनूप मिश्रा पत्रकार बहराइच जिले के थाना नवाबगंज में विगत …

गृहमंत्री अमित शाह कोरोना संक्रमित, खुद ट्वीट कर दी जानकारी

गृहमंत्री अमित शाह कोरोना संक्रमित, खुद ट्वीट कर दी जानकारी गृहमंत्री अमित शाह कोरोना संक्रमित …

तीन तलाक देने वाला आरोपी अभियुक्त गिरफ्तार

रिपोर्ट:- विनोद गिरि IBN NEWS  रुपैडिहा थानाक्षेत्र अन्तर्गत पीडिता जुबैदा पत्नी निजामुद्दीन पुत्री जलील शाह …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp For any query click here