Breaking News

केवल सवाल खड़े करने पर मीडिया का गला घोंटने पर आमादा महाराष्ट्र सरकार : संजय पान्डेय

अर्नब को गिरफ्तार कर कांग्रेस-शिवसेना ने फिर दिलाई इमरजेंसी की याद, लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ को दबाने की कोशिश

एक न्यूज़ चैनल के संपादक अर्नब गोस्वामी को मुंबई पुलिस द्वारा किसी गैंगस्टर या आतंकवादी की तरह गिरफ्तार किए जाने को लेकर पत्रकारों में काफी रोष व्याप्त है। केंद्र सरकार के कई मंत्रियों ने भी इसके लिए महाराष्ट्र की उद्धव सरकार की कड़ी आलोचना की है केंद्रीय मंत्रियों ने गिरफ्तारी को गलत बताया है। इस गिरफ्तारी को फिल्म अभिनेता सुशांत राजपूत और महाराष्ट्र में हुई संतों की हत्या पर लगातार सवाल उठाने से हो रही किरकिरी से तिलमिलाई उद्धव सरकार द्वारा मीडिया की आवाज दबाने की कोशिश करार दिया जा रहा है। भारतीय पत्रकार संघ के जिलाध्यक्ष बलिया व पुर्वांचल प्रभारी संजय पान्डेय ने रोष व्यक्त करते हुये कहा कि
भारी पुलिस फोर्स के साथ मुंबई पुलिस के अधिकारियों ने अर्णब गोस्वामी के घर पर जिस तरह से उन्हें गिरफ्तार किया और प्रतिवाद करने पर परिवार के साथ दुर्व्यवहार किया वह अक्षम्य माना जा रहा है। अर्नब गोस्वामी और उनके संस्थान द्वारा अपनाई जा रही पत्रकारिता की शैली पर असहमति हो सकती है लेकिन लोकतांत्रिक व्यवस्था में कार्यदाई संस्थाओं के काम करने के तरीकों पर मीडिया द्वारा सवाल उठाए जाने को गलत नहीं ठहराया जा सकता साथ ही मीडिया द्वारा बड़े पदों पर बैठे लोगों की कार्यशैली की आलोचना करने पर मीडिया कर्मियों को प्रताड़ित किया जाना अशुभ संकेत है। असहमतियों के बावजूद इस प्रकरण पर देश के मीडिया संगठनों को खुलकर आना चाहिए।

भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने इस विषय पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की हैं। लंबे समय तक पत्रकारिता से संबद्ध रहे और सम्प्रति उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के मीडिया पैनलिस्ट ओमप्रकाश सिंह ने इसे चौथे स्तंभ की हत्या करार दिया है। उन्होंने कहा की पहले इंदिरा गांधी के जमाने में और अब सोनिया गांधी के इशारे पर आपातकाल के कुकृत्य दोहराये जा रहे हैं। मीडिया का गला घोंटा जा रहा है। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने पहले ही इसकी कड़ी निंदा की है, उन्होंने कहा भी है कि अर्नब गोस्वामी के खिलाफ लगाए गए सभी चार्ज वापस लिए जाएं और उन्हें तुरंत रिहा किया जाए।

बलिया के पत्रकारों ने अर्नब गोस्वामी को तत्काल रिहा करने और ऐसी अलोकतांत्रिक हरकतों से विरत रहने की उद्धव सरकार से अपील की है। भारतीय पत्रकार संघ के जिला अध्यक्ष संजय पान्डेय ने अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी को लोकतंत्र की हत्या बताया है। उन्होंने कहा कि यह सीधे-सीधे पत्रकारिता पर कुठाराघात है। मुंबई पुलिस द्वारा उनकी गिरफ्तारी यह साबित करती है कि वहां लोकतंत्र के सभी अंग पंगु हो गए हैं। महाराष्ट्र सरकार की इस कार्रवाई को लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर हमले की संज्ञा दी है। अपनी प्रतिक्रिया में उन्होंने कहा के सरकार के इशारे पर मुंबई पुलिस ने जो तरीका अपनाया है वह साफ तौर पर इशारा करता है कि महाराष्ट्र सरकार अर्नब गोस्वामी और उनके चैनल को मजबूर करके अपने खिलाफ न होने के लिए मजबूर करने की कोशिश में है।

रिपोर्ट वरुण चौबे IBN News ब्यूरो बलिया

About IBN NEWS

Check Also

बाल विवाह के अंतर्गत की गई कार्यवाही, टीम ने रुकवाई वालिका की शादी

  रिपोर्ट सिद्धार्थ तिवारी IBN NEWS फ़िरोज़ाबाद कल दिनांक 28/11/2020 मुख्य विकास अधिकारी फिरोजाबाद को …

ब्राह्मण स्वयंसेवक संघ की स्थापना दिवस पर राम जानकी मन्दिर छोड़हर में हुआ भव्य कार्यक्रम

ब्राह्मण स्वयंसेवक संघ की जिला कार्यकारिणी की बैठक रविवार को राम जानकी मान्दिर परिसर छोड़हर …

कस्तूरबा गांधी स्वयं सहायता समूह के द्वारा सवरू बांध में बांटा गया बच्चों को निशुल्क कॉपी व किताबें

जिले के कांग्रेस वरिष्ठ नेता एवं समाजिक कार्यकर्ता जाकिर हुसैन के सहयोग से ग्राम सवरु …

सर्किल रुदौली के तीनों थानों पर संपूर्ण समाधान दिवस का आयोजन, 9 शिकायत में 3 का निस्तारण

  संवाददाता मुदस्सिर हुसैन IBN NEWS मवई अयोध्या 29/11/2020 अयोध्या – रूदौली सर्किल के तीनों …

कोविड 19 प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने वालों पर होगी कार्यवाही – डीएम

  संवाददाता मुदस्सिर हुसैन IBN NEWS मवई अयोध्या अयोध्या – जिलाधिकारीअनुज कुमार झा ने चिकित्सकों, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *