नेताजी का सेक्स रैकेट, ग्राम प्रधान गुर्गों संग फरार, नाबालिग पीड़िता का परिवार खतरे में

रिपोर्ट विकास चन्द्र अग्रहरि IBN NEWS मिर्जापुर

मीरजापुर – जिले में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ होने के साथ ही पुलिस अबतक महज एक महिला समेत दो लोगों को गिरफ्तार कर पायी है । जबकि ग्राम प्रधान और अध्यापक समेत नौ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है । सूत्रों की माने तो नेताजी अपने आपको जिस राजनैतिक दल का नेता बताकर पुलिस को चकमा दे रहे हैं वह उसके प्राथमिक सदस्य तक नहीं हैं । सजातीय होने का फायदा उठाकर पुलिस की पकड़ से अपने गैंग के तमाम सदस्यों के साथ कानून की पकड़ से बाहर हैं । जबकि वह पास्कों एक्ट समेत विभिन्न धाराओं में दर्ज मामले के वांछित अभियुक्त हैं ।

वाराणसी के रामनगर में करीब दो माह तक कैद पीड़िता अपहर्ताओं के गैंग के चंगुल से किसी प्रकार भाग कर सबसे पहले रामनगर पुलिस के पास पहुंची थी । 21 जुलाई को चुनार पुलिस आईपीसी की धारा 363 में मामला दर्ज करने के बाद भी उससे दूर थी । 15 अगस्त का दिन उसके लिए स्वतंत्र होने का दिवस बन गया ।

सेक्स रैकेट गैंग का खुलासा चुनार पुलिस ने नहीं पीड़िता ने खुद रामनगर थाने पर जाकर किया था । चुनार थाना क्षेत्र से नौकरी के नाम पर सेक्स रैकेट में धकेली गई 15 वर्षीय नाबालिक करीब दो माह बाद भागकर पुलिस के पास पहुंची और अपना दास्तान सुनाया । उसने बताया कि उसे कैद में रखने के साथ ही जबरन ड्रग्स, ड्रिंक्स दिया जाता था । ब्यूटी पार्लर के आड़ में देह व्यापार के धंधे में ढकेल दिया गया था । रामनगर पुलिस ने चुनार पुलिस और परिजनों को बुलाकर सौंपा था ।

पीड़िता के बयान के बाद 376,366 के साथ ही पास्को एक्ट की धारा लगाकर आरोपियों की तलाश आरम्भ किया गया । कई सप्ताह बीत जाने के बाद भी पुलिस अबतक महज दो लोगों को पकड़ पायी है । जबकि गैंग का सरगना ग्राम प्रधान अब भी पुलिस को चकमा दे रहा है या फिर पुलिस उसे कतिपय कारणों से छिपा रही हैं । यह तो जांच का विषय है । लेकिन पीड़िता के मुताबिक हकीकत यह है कि नाबालिग को घर से ब्यूटी पार्लर में काम देने का वादा करके सबसे पहले ग्राम प्रधान के आवास पर ही ले जाया गया था । जहा उसके साथ मारपीट की गई । भयभीत करते हुए उसके साथ कुछ लोगों ने दुष्कर्म किया ।

आधी रात को मुझे दूसरे दुकान पर ले जाकर बन्द कर दिया गया । नौकरी दिलाने के नाम पर नाबालिक लड़की को वाराणसी में बंधक बना कर जबरन वेश्यावृत्ति कराया जाता था । लड़की को मारने पीटने के साथ ही नशा भी दिया जाता था । पीड़िता का सिविल कोर्ट में मजिस्ट्रियल बयान हुआ । नाबालिक लड़की को जबरन बंधक बना कर वेश्यावृत्ति का मामला सामने आने के बाद हड़कंप मचा हुआ है। पीड़िता की मां की मानसिक हालत ठीक नहीं है । पीड़िता अपने घर से निकलकर 12 जून 2020 को रात 9 बजे के करीब लापता हो गयी थी ।लड़की के परिजनों ने उसके लापता होने की जानकारी चुनार थाने को दिया था ।

परिजनों को दो महीने बाद 15-16 अगस्त को चुनार थाने से सूचना मिली कि लड़की वाराणसी के रामनगर थाने में मौजूद है।परिजन पीड़ित लड़की वहां से घर लेकर आये । तब लड़की ने अपने साथ हुई हैवानियत के बारे में परिजनों को बताया।परिजनों के मुताबिक पड़ोस की एक लड़की उसे रामनगर में ब्यूटी पार्लर पर नौकरी दिलाने के नाम पर गुमराह कर घर से गयी।जहां पर उसे बंधक बना कर कमरे में रखा गया।

इस दौरान उसे नशीली चीज खिलाई गयी और शराब भी पिलाई और उसके साथ दुष्कर्म हुआ।दो महीनों तक उसको वेश्यावृत्ति करवाई गयी। इस दौरान ग्राम प्रधान वहा जाने पर शराब पीने के बाद पीड़िता का शोषण करते । घर पहुंचाने की बात पर गाली गलौच करते हुए पिटाई करते थे । परिजनों के मुताबिक इन दो महीनों में उसके साथ दुष्कर्म कर प्रताड़ित किया गया।लड़की किसी तरह से चंगुल से बच कर भाग कर रामनगर थाने पहुंचने के कारण जान बचाकर अपने परिवार के पास लौट पाई यी । पीड़ित लड़की का कोर्ट में बयान दर्ज करवाया गया है।

एसपी नक्सल, महेश सिंह अत्रि
का कहना है कि इस मामले में 21 जुलाई 2020 को मुकदमा दर्ज हुआ था।लड़की के बयान के बाद दुष्कर्म और पास्को एक्ट की धारा भी जोड़ दी गयी है। धारा जोड़ने के बाद भी चुनार पुलिस गैंग के सरगना से अभी दूर है । यह वही चुनार पुलिस ने जिसने पीड़िता के गायब होने की सूचना मिलने के बाद भी हाथ पर हाथ रखकर बैठी रह गई थी । जो हालात तब था वहीं अब भी हैं । गैंग के सरगना प्रधान समेत अन्य सदस्य गुणा गणित करके कानून को ठेंगा दिखाते हुए पुलिस के अनुसार फरार हैं ।

जबकि उनके गुर्गे मामले में सक्रिय लोगों के साथ सौदेबाजी करने के फिराक में लगे हैं । गैर कानूनी ढंग से बचने का जुगत भिड़ा रहे हैं । पीड़िता का परिवार दबंगों के दहशत से डरा सहमा हुआ है ।

चर्चा है कि अपने आपको एक राजनैतिक दल के साथ अपना गहरा नाता जोड़ कर वह इलाके में ट्रेलर टाईट किए हुए है । वह दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष का वरद हस्त अपने ऊपर बताता हैं । जबकि पार्टी के सूत्रों के अनुसार वह पार्टी का सामान्य सदस्य भी नही है । जिसके बल पर अबतक पुलिस को चकमा देकर धौंस जमाता रहा ।

वह आधार ही गायब नजर आ रहा है । वैसे जो भी हो समाज के दुश्मन ग्राम प्रधान समेत उसके गुर्गों का गायब होना जिले में चर्चा का विषय बना हुआ हैं । पुलिस के लंबे हांथ उनके गिरेबान तक कब पहुंचेंगे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp For any query click here