Breaking News

देवो के स्वागत के लिए महादेव की काशी मे पीएम मोदी

टीम (IBN NEWS)

वाराणसी: काशी का देव उत्सव ‘देव दीपावाली’ का इंतजार हर कोई पूरे साल करता है. देवताओं की इस दीपावली का नजारा देखने लोग दूर-दूर से आते हैं. अब वैश्विक स्तर पर एक अलग पहचान बना चुका यह पर्व आम और खास सभी को अपनी ओर आकर्षित कर रहा है.

यही वजह है कि प्रधानमंत्री मोदी भी इस महाउत्सव का दीदार करने 30 नवंबर को वाराणसी पहुंच रहे हैं. इन सबके बीच यह जानना महत्वपूर्ण हो जाता है कि आखिर इस देव दीपावली की शुरुआत कहां से हुई और कैसे घाटों पर यह दीये जलने लगे

देवताओं द्वारा शुरू की गई देव दीपावली को मानव जन तक पहुंचाने का प्रयास महारानी अहिल्याबाई होलकर द्वारा पंचगंगा घाट से शुरू हुआ था. जो धीरे-धीरे समय के साथ काशी के 84 घाटों तक पहुंच गया.

महाराजा काशी नरेश विभूति नारायण सिंह और उनके सहयोगियों ने मिलकर 1985 से देव दीपावली परंपरा को आगे बढ़ाया. 1991 में शुरू हुई गंगा सेवा निधि की गंगा आरती के बाद देव दीपावली ने वैश्विक स्वरूप ले लिया. घाटों का यह महापर्व विश्व स्तर तक पहुंच गया

बनारस के पंचगंगा घाट का इतिहास भी अपने आप में काफी महत्वपूर्ण है. क्योंकि कार्तिक के महीने में यहां पर आकाश दीप जलाए जाने की शुरुआत भी की गई थी. आज भी यहां सैकड़ों की संख्या में आकाशदीप लंबे-लंबे बांस पर लगी टोकरियो में जगमगाते हैं. इतना ही नहीं पंचगंगा घाट पर एक साथ पांच नदियों का समागम होता है.

जिसमें गंगा, यमुना, सरस्वती, द्रुतपापा शामिल है. इसके अलावा पंचगंगा घाट वह पवित्र स्थान भी है जहां पर महान संत कबीर दास को सीढ़ियों पर स्वामी रामानंद जी से गुरुमंत्र मिला था. घाट की सीढ़ियों पर लेट कर अपने गुरू के आने का इंतजार कर रहे कबीर के ऊपर स्वामी रामानंद के पैर इसी घाट पर पड़े थे.

पुराणों में वर्णित है कि कार्तिक के पूरे महीने यदि पंचगंगा घाट पर स्नान किया जाए तो मोक्ष और पुण्य फल की प्राप्ति होती है.

यदि पूरे महीने स्नान न कर पाए तो सिर्फ कार्तिक पूर्णिमा पर लगाई गई एक डुबकी ही पूरे कार्तिक का पुण्य देती है. यही वजह है कि आज भी इस पंचगंगा घाट का महत्व विशेष माना जाता है. इस घाट पर मौजूद सदियों पुराने हजारा दीपक स्तंभ को आज भी प्रज्ज्वलित कर काशी में देव दीपावली पर्व की शुरुआत की जाती है

वाराणसी के पंचगंगा घाट से इस देव दीपावली का सदियों पुराना नाता है. जानकार बताते हैं कि वाराणसी में देव दीपावली के शुरुआत वैसे तो पुराणों में भगवान शिव की कथा से जुड़ी है. लेकिन घाटों पर जलाए जाने वाले दीपक की कहानी पंचगंगा घाट से जुड़ी है.

बताया जाता है कि 1785 ईसवी में महारानी अहिल्याबाई होल्कर ने पंचगंगा घाट पर ही पत्थर से बनाए गए हजारा स्तंभ दीपक की लंबी शृंखला को जलाकर काशी में देव दीपावली उत्सव की शुरुआत की थी.

About IBN NEWS

It's a online news web channel running as IBN24X7NEWS.

Check Also

भानु दुबे द्वारा आयोजित श्री भिखारी बाबा क्रिकेट प्रतियोगिता का फाइनल मैच भलूही को हराकर खरहाटार जीता

गड़वार क्षेत्र के चाँदपुर चट्टी पर भाजयुमो के जिलाउपाध्यक्ष भानु दुबे द्वारा आयोजित श्री भिखारी …

मनाई गई जनेश्वर मिश्र कि 11 वीं पुण्यतिथि

नगर के जनेश्वर मिश्र उपवन में सत्याग्रह से सत्याग्रह से सदन तक की राजनीति शाकाल …

जमालपुर सीएचसी पर मनाया गया खुशहाल दिवस

  ब्यूरो रिपोर्ट विकाश चन्द्र अग्रहरी IBN NEWS मिर्ज़ापुर अहरौरा- जमालपुर सीएचसी पर गुरूवार को …

चंदौली : सड़क सुरक्षा प्रचार रथ को हरी झंडी दिखाकर डीएम ने किया रवाना…

  ब्यूरो  रिपोर्ट ओमप्रकाश श्रीवास्तव IBN NEWS चंदौली चंदौली : राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह हेतु …

चंदौली : नसबंदी शिविर में दुर्व्यवस्थाओं का बोलबाला, सम्बंधित को लगी फटकार…मंडलायुक्त से होगी शिकायत

  ब्यूरो  रिपोर्ट ओमप्रकाश श्रीवास्तव IBN NEWS चंदौली खबर जनपद चंदौली के शहाबगंज ब्लाक स्थित …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *