Breaking News

रामबिहारी चौबे हत्याकांड : सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद विधायक सुशील सिंह ने कहा, जांच में करूंगा सहयोग…मिलेगी क्लीन चिट…

ब्यूरो रिपोर्ट ओ पी श्रीवास्तव IBN NEWS चंदौली

जनपद चंदौली में सुप्रीम कोर्ट से आए एक आदेश के बाद बड़ी हलचल मची है। इस खबर ने जनपद का सियासी पारा इस कड़कड़ाती ठंड में गर्मी ला दी है। हुआ यूं है कि सकलडीहा विधानसभा से बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ चुके रामबिहारी चौबे हत्याकांड में भाजपा के सैयदराजा विधायक सुशील सिंह की भूमिका की जांच में सुप्रीम कोर्ट द्वारा पूर्व में मिली क्लीन चिट को सिरे से नकारते हुए पुनः विधायक की भूमिका की जांच एसआईटी के तेज तर्रार एवं न्यायप्रिय, मामलों के खुलासे का एक्सपर्ट से कराने का निर्देश आया है। जिसके बाद सियासी उबाल चरम पर है।
इस मामले पर विधायक सुशील सिंह द्वारा हर तरह से सहयोग देने की बात कही जा रही है। मीडिया से वार्ता के दौरान सैयदराजा विधायक ने कहा कि रामबिहारी चौबे भले ही उनके खिलाफ सकलडीहा विधानसभा से चुनाव लड़े थे और तृतीय पोजिशन पर थे लेकिन उनके साथ कभी रिश्ते खराब नहीं हुए थे। उनका हमारे परिवार से काफी पुराना मधुर संबंध रहा था। राम बिहारी चौबे उनके चाचा बृजेश सिंह के काफी करीब थे। दोनों परिवार के बीच मतभेद हुआ और रामबिहारी चौबे ने सकलडीहा विधानसभा से बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर हमारे खिलाफ चुनाव लड़ने का एलान कर दिया। बता दें कि चुनाव के कुछ सालों बाद ही रामबिहारी चौबे की हत्या कर दी गई।

हत्या के काफी दिनों के बाद राम बिहारी चौबे के बेटे ने इस मामले पर मेरी तरफ उंगली उठाई और इस मामले की जांच भी हुई, लेकिन मामले को निपटाते हुए वाराणसी पुलिस ने सुशील सिंह को क्लीन चिट देते हुए मामले को बन्द कर दिया था।

इस मामले पर पीड़ित पक्ष जब सुप्रीम कोर्ट पहुंचा तो पुलिस की भूमिका पर सवालिया निशान लगाते हुए इस मामले की उच्चस्तरीय जांच कराने की बात कही।
इस बाबत विधायक सुशील सिंह ने कहा कि यह राजनीतिक षड्यंत्र उनके राजनीति विरोधी मुख्तार अंसारी और मुन्ना बजरंगी के कहने पर किया जा रहा था। क्योंकि राजनीतिक मतभेद के बाद राम बिहारी चौबे का पूरा परिवार इन लोगों के सम्पर्क में चले गए थे और तभी से यह पूरी साजिश रची जा रही थी।

विदित हो इसके पूर्व जिन बदमाशों को वाराणसी और इलाहाबाद से गिरफ्तार किया गया,उनके द्वारा भी इस बात की पुष्टि की गई थी कि इन्हीं के परिवार जनों द्वारा इनको संरक्षण दिया जा रहा था। हालांकि की देश की सर्वोच्च अदालत के आदेश का उनके द्वारा सम्मान किया जाता है। और जो भी अधिकारी इस मामले की जांच करने के लिए आएगा उसको पूरा सहयोग देंगे। सुशील सिंह ने आगे कहा कि जिस तरह पहले उन्हें इस मामले में क्लीन चिट मिली है, वैसे ही आगे भी मिलेगी। उनका इस हत्याकांड से कोई लेना देना नहीं है। ऐसे में इस तरह के आरोप निराधार और बेबुनियाद हैं।

About IBN NEWS

It's a online news web channel running as IBN24X7NEWS.

Check Also

गणतंत्र दिवस के अवसर पर गड़वार व्यापार मंडल के बैनर तले लकी ड्रा के प्रथम विजेता रामपुर निवासी भाजपा नेता हिमांशु प्रताप सिंह, मंटू रहे

गड़वार(बलिया) गड़वार व्यापार मंडल के बैनर तले गणतंत्र दिवस के अवसर पर यूनियन बैंक के …

नागाजी सरस्वती विद्या मंदिर माल्देपुर मुख्य अतिथि प्रांत प्रचारक श्री सुभाष जी ने किया ध्वजारोहण

धारा 370 तीन तलाक जैसे कानून को हटाकर पहला गणतंत्र दिवस मनाया गया अयोध्या में …

एसएसपी फ़िरोज़ाबाद अजय कुमार को मिला डीजीपी प्रशंसा चिन्ह

  रिपोर्टर सौरभ पाठक IBN NEWS बरेली बरेली -आई पी एस अजय कुमार 2011 बैच …

देवरिया जिले में समाजवादी पार्टी का 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के अवसर पर आन्दोलित किसानों के समर्थन में ट्रेक्टर रैली

  देवरिया जिले में समाजवादी पार्टी का 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के अवसर पर आन्दोलित …

कुशीनगर के थाना तुर्कपट्टी के अन्तर्गत कांग्रेस मंडल कार्यालय पर झंडा फहराया गया

  रिपोर्टर एसानुल हक IBN NEWS कुशीनगर जिला कुशीनगर के थाना तुर्कपट्टी के अन्तर्गत कांग्रेस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page