Breaking News
Home / देश / मिसाइल मैन “एपीजे अब्दुल कलाम” की पुण्यतिथि पर शत्-शत् नमन 

मिसाइल मैन “एपीजे अब्दुल कलाम” की पुण्यतिथि पर शत्-शत् नमन 

जानिए उनके जीवन से जुड़ी कुछ खास बातें

भारत के पूर्व राष्ट्रपति कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को रामेश्वरम (तमिलनाडु) में हुआ था। उनका पूरा नाम अवुल पकिर जैनुलाअबदीन अब्दुल कलाम था। कलाम को बचपन में अपनी जिम्मेदारियों का एहसास हो गया था।

1962 में वे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन में आए।

1962 में कलाम इसरो पहुंचे। जब कलाम प्रोजेक्ट डायरेक्टर थे तब भारत ने अपना पहला स्वदेशी उपग्रह प्रक्षेपण यान एसएलवी-3 बनाया था। इसके बाद वर्ष 1980 में रोहिणी उपग्रह को पृथ्वी की कक्षा के समीप स्थापित किया गया और भारत अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष क्लब का सदस्य बन गया। कलाम ने इसके बाद स्वदेशी गाइडेड मिसाइल को डिजाइन किया। इसके बाद उन्होंने अग्नि और पृथ्वी जैसी मिसाइलें भारतीय तकनीक से बनाईं।

1982 में कलाम को डीआरडीएल (डिफेंस रिसर्च डेवलपमेंट लेबोरेट्री) का डायरेक्टर बनाया गया.

1992 से 1999 तक कलाम रक्षा मंत्री के रक्षा सलाहकार थे। तब वाजपेयी सरकार ने पोखरण में दूसरी बार न्यूक्लियर टेस्ट किए और भारत परमाणु हथियार बनाने वाले देशों में शामिल हो गया। इसी के तहत कलाम ने भारत को विजन 2020 दिया। इसके तहत कलाम ने भारत को विज्ञान के क्षेत्र में तरक्की के जरिए 2020 तक आत्याधुनिक करने की खास सोच दी गई।

कई पुरस्कारों से किया गया सम्मानित

कलाम को 1981 में भारत सरकार ने पद्म भूषण और फिर, 1990 में पद्म विभूषण और 1997 में देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया। कलाम देश के केवल तीसरे ऐसे राष्ट्रपति थे जिन्हे भारत के सर्वोच्च पद पर नियुक्ति से पहले भारत रत्न दिया गया। उनसे पहले यह सम्मान मुकाम सर्वपल्ली राधाकृष्णन और जाकिर हुसैन को दिया गया था।

कलाम के आखिरी पल
27 जुलाई 2015 को उनका निधन हुआ। तब वह मेघालय के शिलांग के आईआईएम में लेक्चर देने के लिए गए थे। लेक्चर देते वक्त उन्हें दिल का दौरा पड़ा।
रिपोर्टर अजय कुमार उपाध्याय IBN NEWS वाराणसी

About IBN NEWS

It's a online news web channel running as IBN24X7NEWS.

Check Also

ग्राम पंचायत मकुनहवा मे सार्वजनिक शौचालय निर्माण हेतु किया गया लेआउट

विकास खण्ड हरैया सतघरवा के ग्राम पंचायत मकुनहवा मे सार्वजनिक शौचालय निर्माण हेतु ले आउट …

वाराणसी: हुकुलगंज का चमड़ा कारखाना बंद कराने में हमला भी हुआ

  आज से एक वर्ष पूर्व 31 जुलाई 2019 को जब चमड़ा कारखाना बंद हुआ …

बलरामपुर औऱ श्रावस्ती से अयोध्या भेजा गया मिट्टी तथा जल

रिपोर्ट मृत्युंजय शुक्ला IBN News Balrampur जनपद बलरामपुर तथा श्रावस्ती के पवित्र स्थलों से मिट्टी …

श्रावस्ती: 289 विधानसभा क्षेत्र भिनगा के अन्तर्गत बाढ़ से पीड़ित गावो का दौरा किया

न्यूज अपडेट श्रावस्ती श्रावस्ती:’ भिनगा विधानसभा के ब्लाक हरिहरपुरारानी में करीब दर्जनों गांव बाढ़ की …

श्रावस्ती: गांव में घुसा मगरमच्छ गांव वाले बहुत ही परेशान

  जिला श्रावस्ती के थाना क्षेत्र सोनवा के ग्राम पंचायत तुरहनी बलराम में सुबह को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp For any query click here